Fandom

Hindi Literature

अंधकार ये कैसा छाया / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

अंधकार ये कैसा छाया

सूरज भी रह गया सहमकर ।

सिंहासन पर रावण बैठा

फिर से राम चले वन पथ पर ।

लोग कपट के महलों में रह

सारी उमर बिता देते हैं ।

शिकन नहीं आती माथे पर

छाती और फुला लेते हैं ।

कौर लूटते हैं भूखों का

फिर भी चलते हैं इतराकर ।।

दरबारों में हाजि़र होकर

गीत नहीं हम गाने वाले ।

चरण चूमना नहीं है आदत

ना हम शीश झुकाने वाले ।

मेहनत की सूखी रोटी भी

हमने खाई थी गा ­गाकर ।।

दया नहीं है जिनके मन में

उनसे अपना जुड़े न नाता ।

चाहे सेठ मुनि ­ज्ञानी हो

फूटी आँख न हमें सुहाता ।

ठोकर खाकर गिरते पड़ते

पथ पर बढ़ते रहे सँभलकर।।

Also on Fandom

Random Wiki