Fandom

Hindi Literature

अंधा कुंआं / तारादत्त निर्विरोध

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

कवि: डा तारादत्त निर्विरोध

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

चलो, अच्छा हुआ

हमने भी झांक लिया

लंगड़ों के गांव का

अंधा कुंआं।


अब तो हैं छूट रहे

पांवों से

पगडंडी-पाथ,

वह भी सब छोड़ चले

लाए जो साथ-साथ।

न कहीं टोकते गबरीले शकुन,

न कहीं रोकती मटियाली दुआ।


हमने ही चाहे नहीं

झाड़ी के बेर,

छज्जे की धूप के

नये हेर फेर।

अरसे से मौन था

भीतरी सुआ।

Also on Fandom

Random Wiki