Fandom

Hindi Literature

अधपके अमरूद की तरह पृथ्वी / अशोक वाजपेयी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

खरगोश अँधेरे में

धीरे-धीरे कुतर रहे हैं पृथ्वी ।


पृथ्वी को ढोकर

धीरे-धीरे ले जा रही हैं चींटियाँ ।


अपने डंक पर साधे हुए पृथ्वी को

आगे बढ़ते जा रहे हैं बिच्छू ।


एक अधपके अमरूद की तरह

तोड़कर पृथ्वी को

हाथ में लिये है

मेरी बेटी ।


अँधेरे और उजाले में

सदियों से

अपना ठौर खोज रही है पृथ्वी


(रचनाकालः1985)

Also on Fandom

Random Wiki