Fandom

Hindi Literature

अपवाद / अरुण कमल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


जब सब वाह वाह कर रहे हों

जब पूरे मुल्क में एक ही नाम का जाप हो

तब मैं उठूंगा और कहूंगा--

और सब तो ठीक, पर उस इन्सान में

एक ख़राबी भी थी,

वो यह कि लोग जब खाने बैठते

वह नाक में उंगली कोंच लेता ।


जब सब थू थू कर रहे हों

जब मौत के बाद भी फाँसी की मांग हो

तब मैं उठूंगा और कहूंगा--

ख़ुदा के बन्दों, उस हैवान में एक

अच्छाई भी थी,

वो यह कि जब लोग एक साथ सोए

उसने कभी अकेले मसहरी नहीं बाँधी ।

Also on Fandom

Random Wiki