Fandom

Hindi Literature

अब घर काहू कैं जनि जाहु / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग सारंग


अब घर काहू कैं जनि जाहु ।
तुम्हरैं आजु कमी काहे की , कत, तुम अनतहिं खाहु ॥
बरै जेंवरी जिहिं तुम बाँधे, परैं हाथ भहराइ ।
नंद मोहि अतिहीं त्रासत हैं, बाँधे कुँवर कन्हाइ ॥
रोग जाऊ मेरे हलधरके, छोरत हौ तब स्याम ।
सूरदास-प्रभु खात फिरौ जनि, माखन-दधि तुव धाम ॥

भावार्थ :-- सूरदास जी कहते हैं--(मैया पश्चाताप करती कह रही हैं -)`लाल! अब किसी के घर मत जाया करो । तुम्हारे यहाँ इस समय किस बात का अभाव है, दूसरे के यहाँ जाकर तुम क्यों खाते हो ? जिस रस्सी से तुम्हें बाँधा था, वह जल जाय; (तुम्हें बाँधने वाले मेरे ) ये हाथ टूटकर गिर पड़ें, व्रजराज मुझे बहुत ही डाँट रहे हैं कि `तूने मेरे कुँवर कन्हाई को बाँध दिया ! मेरे बलराम के सब रोग दोष नष्ट हो जायँ, वह तभी श्यामसुन्दर को छोड़ रहा था । मोहन ! तुम्हारे घर में ही दही-मक्खन बहुत है,(दूसरों के घर) खाते मत घूमो ।'

Also on Fandom

Random Wiki