Fandom

Hindi Literature

अब तक तो / अहमद नदीम क़ासमी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

अब तक तो नूर-ओ-निख़त-ओ-रंग-ओ-सदा कहूँ,
मैं तुझे छू सकूं तो ख़ुदा जाने क्या कहूँ|

लफ्ज़ों से उन को प्यार है मफ्हूम से मुझे,
वो गुल कहें जिसे मैं तेरा नक्ष-ए-पा कहूँ|

अब जुस्तजू है तेरी जफ़ा के जवाज़ की,
जी चाहता है तुझ को वफ़ा आशना कहूँ|

सिर्फ़ इस के लिये कि इश्क़ इसी का ज़हूर है,
मैं तेरे हुस्न को भी सबूत-ए-वफ़ा कहूँ|

तू चल दिया तो कितने हक़ाइक़ बदल गये,
नज्म-ए-सहर को मरक़द-ए-शब का दिया कहूँ|

क्या जब्र है कि बुत को भी कहना पड़े ख़ुदा,
वो है ख़ुदा तो मेरे ख़ुदा तुझ को क्या कहूँ|

जब मेरे मुहं में मेरी ज़ुबां है तो क्यूं न,
मैं जो कुछ कहूं यकीं से कहूं बर्मला कहूँ|

क्या जाने किस सफ़र पे रवां हूँ अज़ल से मैं,
हर न्तहा को एक नयी इब्तिदा कहूँ|

हो क्यू न मुझ को अपने मज़ाक़-ए-सुख़न पे नाज़,
ग़ालिब को कायनात-ए-सुख़न का ख़ुदा कहूँ |

Also on Fandom

Random Wiki