Fandom

Hindi Literature

अमलतास के झूमर / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

धरती तपती लोहे जैसी

गरम थपेड़े लू भी मारे ।

अमलतास तुम किसके बल पर

खिल- खिल करते बाँह पसारे ।

पीले फूलों के गजरे तुम

भरी दुपहरी में लटकाए ।

चुप हैं राहें, सन्नाटा है

फिर भी तुम हो आस लगाए ।

कठिन तपस्या करके तुमने

यह रंग धूप से पाया है ।

इन गजरों को उसी धूप से

कहकर तुमने रँगवाया है ।

इनके बदले में पत्ते भी

तुमने सबके सब दान किये

किसके स्वागत में आतुर हो


तुम मिलने का अरमान लिये ?

तुझे देखकर तो लगता है –

जो जितना तप जाता है ।

इन सोने के झूमर –जैसी

खरी चमक वही पाता है ।

जीवन की कठिन दुपहरी में

तुझसे सब मुस्काना सीखें ।

घूँट –घूँट पी रंग धूप का

सब कुन्दन बन जाना सीखें ।

Also on Fandom

Random Wiki