Fandom

Hindi Literature

अहिंसा / भारत भूषण अग्रवाल

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

खाना खा कर कमरे में बिस्तर पर लेटा

सोच रहा था मैं मन ही मन : 'हिटलर बेटा

बड़ा मूर्ख है,जो लड़ता है तुच्छ-क्षुद्र मिट्टी के कारण

क्षणभंगुर ही तो है रे ! यह सब वैभव-धन।

अन्त लगेगा हाथ न कुछ, दो दिन का मेला।

लिखूँ एक ख़त, हो जा गाँधी जी का चेला।

वे तुझ को बतलायेंगे आत्मा की सत्ता

होगी प्रकट अहिंसा की तब पूर्ण महत्ता ।

कुछ भी तो है नहीं धरा दुनिया के अन्दर ।'

छत पर से पत्नी चिल्लायी : " दौड़ो , बन्दर !"

Also on Fandom

Random Wiki