Fandom

Hindi Literature

आछौ दूध पियौ मेरे तात / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग गौरी


आछौ दूध पियौ मेरे तात ?
तातौ लगत बदन नहिं परसत, फूँक देति है मात ॥
औटि धर्‌यौ है अबहीं मोहन, तुम्हरैं हेत बनाइ ।
तुम पीवौ, मैं नैननि देखौं, मेरे कुँवर कन्हाइ ॥
दूध अकेली धौरी कौ यह, तनकौं अति हितकारि ।
सूर स्याम पय पीवन लागे, अति तातौ दियौ डारि ॥


भावार्थ :-- (मैया कहती है-) `मेरे लाल! बड़ा अच्छा दूध है पी लो ।' गरम लगता है, इससे मुख से छूते नहीं-माता फूँक देकर शीतल करती है । (वह कहती है-)`मोहन! इसे अभी-अभी तुम्हारे ही लिये बनाकर (भली प्रकार) उबालकर रखा है । मेरे कुँवर कन्हाई! तुम पीओ और मैं अपनी आँखों (तुम्हें दूध पीते ) देखूँ । वह केवल धौरी का दूध है, शरीर के लिये अत्यन्त लाभकारी है । सूरदास जी कहते हैं- श्यामसुन्दर दूध पीने लगे; किंतु वह अत्यन्त गरम था, इससे गिरा दिया ।

Also on Fandom

Random Wiki