Fandom

Hindi Literature

आजकल / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

हवा में फिर से घुटन है आजकल ।

रोज सीने में जलन है आजकल ॥


घुल रही नफ़रत नदी के नीर में ।

नफ़रतों का आचमन है आजकल ॥


कौन सी अब छत भरोसेमन्द है।

फ़र्श भी नंगे बदन है आजकल ॥


गले मिलते वक़्त खंज़र हाथ में ।

हो रहा ऐसे मिलन है आजकल॥


फूल चुप खामोश बुलबुल क्या करे।

लहू में डूबा चमन है आजकल ॥


गोलियाँ छपने लगी अख़बार में ।

वक़्त कितना बदचलन है आजकल ॥


जा नहीं सकते कहीं बचकर कदम ।

बाट में लिपटा कफ़न है आजकल ॥

Also on Fandom

Random Wiki