Fandom

Hindi Literature

आजु हरि धेनु चराए आवत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

आजु हरि धेनु चराए आवत ।
मोर-मुकुट बनमाल बिराजत, पीतांबर फहरावत ॥
जिहिं-जिहिं भाँति ग्वाल सब बोलत, सुनि स्रवननि मन राखत ।
आपुनि टेर लेत ताही सुर, हरषत पुनि पुनि भाषत ॥
देखत नंद-जसोदा-रोहिनि, अरु देखत ब्रज-लोग ।
सूर स्याम गाइनि सँग आए, मैया लीन्हे रोग ॥

भावार्थ :-- आज श्याम गायें चराकर आ रहे हैं । मयूरपिच्छ का मुकुट और वनमाला शोभा दे रही है, पीताम्बर का पटुका उड़ रहा है । सब गोप सखा जिस-जिस प्रकार से बोलते हैं, उसी प्रकार से (उसी भाव से) उनकी बातें सुनते हैं तथा उनका मन रखते हैं । स्वयं भी सखाओं के स्वर-में-स्वर मिलाकर उसी स्वरमें टेर लगाते हैं और हर्षित होकर बार-बार उसे दुहराते हैं । श्रीनन्द जी, यशोदा मैया और रोहिणी माता देख रही हैं , व्रज के सब लोग (उनका आना) देख रहे हैं । सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर गायों के साथ आ गये । मैया ने--`मेरे लाल की सब रोग-व्याधि मुझे लगे' यह कहकर उनकी बलैया ली ।

Also on Fandom

Random Wiki