Fandom

Hindi Literature

आवहु, कान्ह, साँझ की बेरिया / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरौ


आवहु, कान्ह, साँझ की बेरिया ।
गाइनि माँझ भए हौ ठाढ़े, कहति जननि, यह बड़ी कुबेरिया ॥
लरिकाई कहुँ नैकु न छाँड़त, सोइ रहौ सुथरी सेजरिया ।
आए हरि यह बात सुनतहीं, धाए लए जसुमति महतरिया ॥
लै पौढ़ी आँगनहीं सुत कौं, छिटकि रही आछी उजियरिया ॥
सूर स्याम कछु कहत-कहत ही बस करि लीन्हें आइ निंदरिया ॥

भावार्थ :-- माता कहती हैं, `कन्हाई ! सायंकाल हो गया, अब आ जाओ । यह बहुत कुसमय में तुम गायों के बीच में खड़े हो । (इस समय गायें बछड़ों को पिलाने के लिये उछलकूद करती हैं, कहीं चोट न लग जाय) तुम तनिक भी लड़कपन नहीं छोड़ते, अब तो स्वच्छ पलंग पर सो रहो ।' यह बात सुनते ही श्यामसुन्दर आ गये । माता यशोदा जी ने दौड़कर उन्हें गोद में उठा लिया । अच्छी चाँदनी फैल रही थी, अपने पुत्र को लेकर (माता) आँगन में ही (पलंग पर) लेट गयीं ! सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर कुछ बातें करते ही थे कि निद्रा ने आकर उन्हें वश में कर लिया । (बातें करते-करते वे सो गये ।)

Also on Fandom

Random Wiki