Fandom

Hindi Literature

इन अँखियन आगैं तैं मोहन, एकौ पल जनि होहु नियारे / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरौ

इन अँखियन आगैं तैं मोहन, एकौ पल जनि होहु नियारे ।
हौं बलि गई, दरस देखैं बिनु, तलफत हैं नैननि के तारे ॥
औरौ सखा बुलाइ आपने, इहिं आगन खेलौ मेरे बारे ।
निरखति रहौं फनिग की मनि ज्यौं, सुंदर बाल-बिनोद तिहारे ॥
मधु, मेवा, पकवान, मिठाई, व्यंजन खाटे, मीठे, खारे ।
सूर स्याम जोइ-जोइ तुम चाहौ, सोइ-सोइ माँगि लेहु मेरे बारे ॥

भावार्थ :-- सूरदास जी कहते हैं- (माता कह रही हैं ) `मोहन! मेरी इन आँखों के सामने से एक क्षण के लिये भी अलग (ओझल) मत हुआ करो । मैं तुम पर बलिहारी जाती हूँ, तुम्हारा दर्शन किये बिना मेरे नेत्रों की पुतलियाँ तड़पती ही रहती हैं मेरे लाल ! दूसरे सखाओं को भी बुलाकर अपने इसी आँगन में खेलो । सर्प जैसे (अपनी) मणि को देखता रहता है, उसी प्रकार मैं तुम्हारी सुन्दर बाल क्रीड़ा को देखती रहूँ । मधु, मेवा, पकवान, मिठाई तथा खट्टे, मीठे, चरपरे -जो-जो भी व्यञ्जन श्यामसुन्दर ! तुम्हें चाहिये, मेरे लाल ! वही वही तुम माँग लिया करो ।'

Also on Fandom

Random Wiki