Fandom

Hindi Literature

ईसुरी की फागें-1 / बुन्देली

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































मोटा पाठ[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षकमीडिया:उदाहरण.ogg Edit

]]
[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षक[[मीडिया:पार्स नहीं कर पायें (लेक्सींग समस्या): उदाहरण.ogg --~~~~अप्रारूपित सामग्री यहाँ डालें ---- ]] Edit

]]== शीर्षक ==


तुम खों छोड़न नहि विचारें

भरवौ लों अख्तयारें

जब ना हती, कछू कर घर की, रए गरे में डारें

अब को छोड़ें देत, प्रान में प्यारी भई हमारें

लगियो न भरमाए काऊ के, रैयो सुरत सम्भारें

ईसुर चाएँ तुमारे पीछें, घलें सीस तलवारें


भावार्थ

तुम्हें छोड़ने का मेरा कोई विचार नहीं है, चाहे मरना पड़ जाए । मैं तुम्हें तब से गले में डाले हुए हूँ, जब तुम जवान

नहीं थीं और पुरुष के आनन्द की चीज़ नहीं थीं । अब तो तुम यौवन की मालकिन हो । अब, भला, कैसे छोड़ूंगा तुम्हें ।

अब तो तुम मेरे मन-प्राण में बसी हुई हो । बस, अब तुम्हें कोई कितना भी भरमाए, उसके भरमाए में मत आना ।

चाहें तुम्हारे पीछे तलवारें चल जाएँ और सिर कट जाएँ । लेकिन ईसुर को अब किसी बात की परवाह नहीं है ।

Also on Fandom

Random Wiki