Fandom

Hindi Literature

ईसुरी की फाग-5 / बुन्देली

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































मोटा पाठ[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षकमीडिया:उदाहरण.ogg Edit

]]
[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षक[[मीडिया:पार्स नहीं कर पायें (लेक्सींग समस्या): उदाहरण.ogg --~~~~अप्रारूपित सामग्री यहाँ डालें ---- ]] Edit

]]== शीर्षक == साँचा:KKLokGeetBhaashaSoochi

दिल की राम हमारी जानें

मित्र झूठ न मानें

हम तुम लाल बतात जात ते, आज रात बर्रानें

सा परतीत आज भई बातें, सपनेन काए दिखानें ?

ना हो, हो, देख लेत हैं, फूले नईं समानें

भौत दिनन से मोरो ईसुर तुमें लगौ दिल चानें


भावार्थ


हमारे मन की बात तो राम ही जानते हैं । मित्र, हमारी बात को झूठ न समझें । आज रात को ही हमने यह सपना

देखा है कि हम उनसे बात कर रहे हैं । तब हमें यह अन्दाज़ हुआ कि सपना हमने क्यों देखा ? हम उन्हें यहाँ-वहाँ

किसी न किसी तरह देख कर ख़ुश होते रहते हैं न, इसलिए अब वे हमें सपने में भी दिखाई देने लगी हैं । अरे ईसुरी,

मेरा दिल उन्हें बहुत दिनों से चाहता है ।

Also on Fandom

Random Wiki