Fandom

Hindi Literature

उजियारे के कतरे / यश मालवीय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


लोग कि अपने सिमटेपन में बिखरे-बिखरे हैं,

राजमार्ग भी, पगडंडी से ज्यादा संकरे हैं ।



हर उपसर्ग हाथ मलता है प्रत्यय झूठे हैं,

पता नहीं हैं, औषधियों को दर्द अनूठे हैं,

आँखें मलते हुए सबेरे केवल अखरे हैं ।



पेड़ धुएं का लहराता है अँधियारों जैसा,

है भविष्य भी बीते दिन के गलियारों जैसा

आँखों निचुड़ रहे से उजियारों के कतरे हैं ।



उन्हें उठाते जो जग से उठ जाया करते हैं,

देख मज़ारों को हम शीश झुकाया करते हैं,

सही बात कहने के सुख के अपने ख़तरे हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki