Fandom

Hindi Literature

उड़ गए बालो-पर उड़ानों में... / देवी नांगरानी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

उड़ गए बालो-पर उड़ानों में

सर पटकते हैं आशियानों में ।


जल उठेंगे चराग़ पल-भर में

शिद्दतें चाहिएँ तरानों में ।


नज़रे बाज़ार हो गए रिश्ते

घर बदलने लगे दुकानों में ।


धर्म के नाम पर हुआ पाखंड

लोग जीते हैं किन गुमानों में ।


कट गए बालो-पर, मगर हमने

नक्श छोड़े हैं आसमानों में ।


वलवले सो गए जवानी के

जोश बाक़ी नहीं जवानों में ।


बढ़ गए स्वार्थ इस क़दर 'देवी'

घर बँट गया कई घरानों में ।

Also on Fandom

Random Wiki