FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


सुनौ गोपी हरि कौ संदेस
करि समाधि अंतर गति ध्यावहु, यह उनकौ उपदेस ॥
वै अविगत अविनासी पूरन, सब-घट रहे समाइ ।
तत्व ज्ञान बिनु मुक्ति नहीं है, बेद पुराननि गाइ ॥
सगुन रूप तजि निरगुन ध्यावहु, इस चित इक मन लाइ ।
वह उपाइ करि बिरह तरौ तुम, मिलै ब्रह्म तब आइ ॥
दुसह सँदेस सुनत माधौ को, गोपी जन बिलखानी ।
सूर बिरह की कौन चलावै, बुड़तिं मनु बिनु पानी ॥1॥

परी पुकार द्वार गृह-गृह तैं, सुनी सखी इक जोगी आयौ ।
पवन सधावन, भवन छुड़वन, रवन-रसाल, गोपाल पठायौ ॥
आसन बाँधि, परम ऊरध चित, बनत न तिनहिं कहा हित ल्यायौ ।
कनक बेलि , कामिनि ब्रजबाला, जोग अगिनि दहिबे कौं धायौ ॥
भव-भय हरन, असुर मारन हित, कारन कान्ह मधुपुरी छायौ ।
ब्रज मै जादव एकौ नाहीं, काहैं उलटौ जस बिथरायौ ॥
सुथल जु स्याम धाम मैं बैठौ, अबलनि प्रति अधिकार जनायौ ॥
सूर बिसारी प्रीति साँवरै, भली चतुरता जगत हँसायौ ॥2॥

देन आए ऊधौ मत नीकौ ।
आवहु री मिलि सुनहु सयानी, लेहु सुजस कौ टीकौ ॥
तजन कहत अंबर आभूषन, गेह नेह सुत ही कौ ।
अंग भस्म करि सीस जटा धरि,सिखवत निरगुन फीकौ ॥
मेरे जान यहै जुवतिनि कौ, देत फिरत दुख पी कौ ।
ता सराप तें भयौ स्याम तन, तउ न गहत डर जी कौ ॥
जाकी प्रकृति परी जिय जेसी, सोच न भली बुरी कौ ।
जैसैं सूर ब्याल रस चाखैं, मुख नहिं होत अमी कौ ॥3॥

प्रकृति जो जाकैं अंग परी ।
स्वान पूँछ कोउ कोटिक लागै, सूधी कहुँ न करी ॥
जैसें काग भच्छ नहिं छाँड़ै, जनमत जौन घरी ।
धौए रंग जात नहिं कैसेहुँ, ज्यौं कारी कमरी ॥
ज्यौं अहि डसत उदर नहिं पूरत, ऐसी धरनि धरी ।
सूर होइ सो होइ सोच नहिं, तैसेइ एऊ री ॥4॥

समुझि न परति तिहारो ऊधौ ।
ज्यौं त्रिदोष उपजैं जक लागत, बोलत बचन न सूधौ ॥
आपुन कौ उपचार करो अति, तब औरनि सिख देहु ।
बड़ौ रोग उपयौ है तुमकौं भवन सबारैं लेहु ।
ह्वाँ भेषज नाना बाँतिन के, अरु मधु-रिपु से बैद ।
हम कातर डरपतिं अपनै सिर, यह कलंक है खेद ॥
साँची बात छाँड़ि अलि तेरी, झूठी को अब सुनिहै ।
सूरदास मुक्ताहल भोगी, हंस ज्वारि क्यौं चुनिहै ॥5॥

ऊधौ हम आजु भईं बड़ भागी ।
जिन अँखियन तुम स्याम बिलोके, ते अँखियाँ हम लागीं ॥
जैसे सुमन बास लै आवत, पवन मधुप अनुरागी ।
अति आनंद होत है तैसें, अंग-अंग सुख रागी ॥
ज्यौं दरपन मैं दरस देखियत, दृष्टि परम रुचि लागी ।
तैसैं सूर मिले हरि हमकौं, बिरह-बिथा तन त्यागी ॥6॥

(अलि हौं) कैसैं कहौं हरि के रूप रसहिं ।
अपने तन मैं भेद बहुत बिधि, रसना जानै न नैन दसहिं ॥
जिन देखे ते आहिं बचन बिनु, जिनहिं बचन दरसन न तिसहिं ।
बिनु बानी ये उमँगि प्रेम जल, सुमिरि-सुमिरि वा रूप जसहिं ॥
बार-बार पछितात यहै कहि, कहा करौं जो बिधि न बसहिं ।
सूर सकल अँगनि की गति, क्यौं समुझावैं छपद पसुहिं ॥7॥

हम तौ सब बातनि सचु पायौ ।
गोद खिलाइ पिवाइ देह पय, पुनि पालनै झुलायौ ॥
देखति रही फनिग की मनि ज्यौं, गुरुजन ज्यौं न भुलायौ ।
अब नहिं समुजति कौन पाप तै, बिधना सो उलटायौ ॥
बिनु देखैं पल-पल नहिं छन-छन, ये ही चित ही चायौ ।
अबहिं कठोर भए ब्रजपति-सुत, रोवत मुँह न धुवायौ ॥
तब हम दूध दही के कारन, घर घर बहुत खिझायौ ।
सो सब सूर प्रगट ही लाग्यौ , योगऽरु ज्ञान पठायौ ॥8॥

मधुकर कहिऐ काहि सुनाइ ।
हरि बिछुरत हम जिते सहे दुख, जिते बिरह के धाइ ॥
बरु माधौ मधुबन ही रहते, कत जसुदा कैं आए ।
कत प्रभु गोप-बेष ब्रज धरि कै, कत ये सुख उपजाए ॥
कत गिरि धर्‌यौ, इन्द्र मद मेट्यौ, कत बन रास बनाए ।
अब कहा निठुर भए अबलनि कौं, लिखि लिखि जोग पठाए ॥
तुम परबीन सबे जानत हौ, तातैं यह कहि आई ।
अपनी को चालै सुनि सूरज, पिता जननि बिसराई ॥9॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki