FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


अंतरजामी कुंवर कन्हाई ।
गुरु गृह पढ़त हुते जहँ विद्या, तहँ ब्रज-बासिनि की सुधि आई ॥
गुरु सौं कह्यौ जोरि कर दोऊ, दछिना कहौ सो देउँ मँगाई ।
गुरु-पतनी कह्यौ पुत्र हमारे, मृतक भये सो देहु जिवाई ॥
आनि दिए गुरु-सुत जमपुर तैं, तब गुरुदेव असीस सुनाई ।
सूरदास प्रभु आइ मधुपुरी, ऊधौ कौं ब्रज दियौ पठाई ॥1॥

जदुपति जानि उद्धव रीति ।
जिहिं प्रगट निज सखा कहियत, करत भाव अनीति ॥
बिरह दुख जहँ नाहिं-नैकहूँ, तहँ न उपजै प्रेम ।
रेख, रूप न बरन जाकैं, इहिं धर्यौ वह नेम ॥
त्रिगुन तन करि लखत हमकौं, ब्रह्म मानत और ।
बिना गुना क्यौं पुहुमि उघरै, यह करत मन डौर ॥
बिरस रस के मंत्र कहुऐ, क्यौ, चलै संसार ।
कछु कहत यह एक प्रगटत, अति भर्यौ अहंकार ॥
प्रेम भजन न नैंकु याकौं, जाइ क्यौं समुझाइ ।
सूर प्रभु मन यहै आनी, ब्रजहिं देउँ पठाइ ॥2॥

संग मिलि कहौं कासौं बात ।
यह तौ कहत जोग की बातैं, जामै रस जरि जात ॥
कहत कहा पितु मातु कौन के, पुरुष नारि कह नात ।
कहाँ जसोदा सी है मैया, कहाँ नंद सम तात ॥
कहँ बृषभान-सुता सँग कौ सुख, वह बासर वह प्रात ।
सखी सखा सुख नहिं त्रिभुवन मैं, नहिं बैकुंठ सुहात ॥
वै बातें कहियै किहिं आगै, यह गुनि हरि पछितात ।
दूरदास प्रभु ब्रज महिमा कहि, लिकी बदत बल ब्रात ॥3॥

तबहिं उपंग-सुत आइ गए ।
सखा सखा कछु अंतर नाहीं, भरि भरि अंक लए ॥
अति सुन्दर तन स्याम सरीखो, देखत हरि पछिताने ।
ऐसे कैं वैसी बुधि होती, ब्रज पठऊँ मन आने ॥
या आगैं रस-कथा प्रकासौं, जोग-कथा प्रगटाऊँ ।
सूर ज्ञान याकौ दृढ़ करिकै, जुवतिन्ह पास पठाऊँ ॥4॥

हरि गोकुल की प्रीति चलाई ।
सुनहु उपँग-सुत मोहि न बिसरत, ब्रज बासी सुखदाई ॥
यह चित होत जाऊँ मैं अबहीं, इहाँ नहीं मन लागत ।
गोपी ग्वाल गाइ बन चारन, अति दुख पायौ त्यागत ॥
कहँ माखन-रोटी, कहँ जहँ जसुमति, जेंवहु कहि-कहि प्रेम ।
सूर स्याम के बचन हँसत सुनि, थापत अपनौ नेम ॥5॥

जदुपति लख्यौ तिहिं मुसुकात ।
कहत हम मन रही जोई, भई सोई बात ॥
बचन परगट करन कारन, प्रेम कथा चलाई ।
सुनहु ऊधौ मोहिं ब्रज की, सुधि नहीं बिसराइ ॥
रैनि सोवत दिवस जागत, नाहिं नै मन आन ।
नंद-जसुमति, नारि-नर-ब्रज तहाँ मेरौ प्रान ॥
कहत हरि सुनि उपँग सुत यह, कहत हौम रस रीति ।
सूर चित तैं टरति नाहीं, राधिका की प्रीति ॥6॥

सखा सुनि एक मेरी बात ।
वह लता गृह संग गोपनि, सुधि करत पछितात ॥
बिधि लिखी नहिं टरत क्यौं हूँ, यह कहत अकुलात ।
हँसि उपँग-सुत बचन बोले, कहा करि पछितात ॥
सदा हित यह रहत नाहीं, सकल मिथ्या जात ।
सूरप्रभु एक यह सुनो मोसौं, एक ही सौं नात ॥7॥

जब ऊधौ यह बात कही ।
तब जदुपति अति ही सुख पायौ, मानी प्रगट सही ।
श्री मुख कह्यौ जाहु तुम ब्रज कौं, मिलहु जाइ ब्रज-लोग ।
मो बिनु, बिरह भरीं ब्रजबाला, जाउ सुनावहु जोग ॥
प्रेम मिटाइ ज्ञान परबोधहु, तुम हौ पूरन ज्ञानी ।
सूर उपंग-सुत मन हरषाने, यह महिमा इन जानी ॥8॥

ऊधौ तुम यह निश्चय जानौ ।
मन, बच, क्रम, मैं तुमहिं पठावत, ब्रज कौं तुरत पलानौ ॥
पूरन ब्रह्म अकल अविनासी, ताके तुम हौ ज्ञाता ।
रेख न रूप जाति कुल नाहीं, जाके नहिं पितु माता ॥
यह मत दै गोपिनि कौं आवहु, बिरह नदी मैं भासत ।
सूर तुरत तुम जाइ कहौ यह, ब्रह्म बिना नहिं आसत ॥9॥

ऊधौ मन अभिमान बढ़ायो ।
जदुपति जोग जानि जिय साँचौ, नैन अकास चढ़ायौ ॥
नारिनि पै मोकौं पठवत हैं, कहत सिखावन जोग ।
मन ही मन अप करत प्रसंसा, यह मिथ्या सुख-भोग ॥
आयसु मानि लियौ सिर ऊपर, प्रभु आज्ञा परमान ।
सूरदास प्रभु गोकुल पठवत, मैं क्यौं हौं कि आन ॥10॥

तुम पठवत गोकुल कै जैहौं ।
जौ मानिहैं ब्रह्म की बातें, तो उनसौं मै कैहौं ॥
गदगद बचन कहत मन प्रपूलित, बार-बार समझैहौं ।
आजु नहीं जो करौं काज तुव, कौन काज फुनि लैहौं ॥
यह मिथ्या संसार सदाई, यह कहिकै उठि ऐहौं ।
सूर दिना द्वै ब्रज-जन सुख दै, आइ चरन पुनि गैहौं ॥11॥

तुरत ब्रज जाहु उपँग-सुत आजु ।
ज्ञान बुझाइ खबरि दै आवहु , एक पंथ द्वै काज ॥
जब तैं मधुबन कौं हम आए , फेरि गयौ नहिं कोइ ।
जुवतिनि पै ताही कौं पठवैं, जो तुम लायक होइ ॥
इक प्रवीन अरु सखा हमारे, ज्ञानी तुम सरि कौन ।
सोइ कीजौ जातैं ब्रज-बाला, साधन सीखैं पौन ॥
श्रीमुख स्याम कहत यह बानी, ऊधौ सुनत सिहात ।
आयसु मानि सूर प्रभु जैहौं, नारि मानिहैं बात ॥12॥

हलधर कहत प्रीति जसुमति की ।
कहा रोहिनी इतनी पावै, वह बोलनि अति हित की ॥
एक दिवस हरि खेलत मो सँग, झगरौ कीन्हौ पेलि ।
मौकौं दौरि गोद करि लीन्हौ, इनहिं दियौ कर ठेलि ॥
नंद बबा तब कान्ह गोद करि, खीजन लागे मोकौं ।
सूर स्याम नान्हौं तेरौ भैया, छोह न आवत तोकौं ॥13॥

जसुमति करति मोकौं हेत ।
सुनौ ऊधौ कहत बनत न, नैन भरि-भरि लेत ॥
दुहुँनि कौ कुसलात कहियौ, तुमहिं भूलत नाहिं ।
स्याम हलधर सुत तुम्हारे, और के न कहाहिं ॥
आइ तुमकौं धाइ मिलिहैं, कछुक कारज और ।
सूर हमकौ तुम बिना सुख, कौ नहीं कहुँ ठौर ॥14॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki