Fandom

Hindi Literature

उद्धव मथुरा प्रत्यागमन तथा कृष्ण उद्धव संवाद / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


ऊधौ जब ब्रज पहुँचे जाइ ।
तबकी कथा कृपा करि कहियै, हम सुनिहैं मन लाइ ॥
बाबा नंद जसोदा मैया, मिले कौन हित आइ ?
कबहूँ सुरसति करत माखन की, किधौं रहे बिसराइ ॥
गोप सखा दधि-भात खात बन, अरु चाखते चखाइ ।
गऊ बच्च मुरली सुनि उमड़त , अब जु रहत किहँ भाइ ॥
गोपिन गृह ब्यवहार बिसारे, मुख सन्मुख सुख पाइ ।
पलक ओट निमि पर अनखातीं, यह दुख कहाँ समाइ ॥
एक सखी उनमैं जो राधा, लेति मनहिं जु चुराइ ।
सूर स्याम यह बार-बार कहि, मनहिं मन पछिताइ ॥1॥

जब मैं इहाँ तै जु गयौ ।
तब ब्रजराज सकल गोपी जन, आगैं होइ लयौ ॥
उतरे जाइ नंद बाबा कैं, सबही सोध लह्यौ ।
मेरी सौं मोसौं साँची कहि, मैया कहा कह्यौ ?
बारंबार कुसल पूछी मोहिं, लै लै तुम्हरौ नाम ।
ज्यौं जल तृषा बढ़ी चातक चित, कृष्न-कृष्न बलराम ॥
सुंदर परम बिचित्र मनोहर, यह मुरली दै घाली ।
लई उठाइ सुख मानि सूर प्रभु, प्रीति आनि उर साली ॥2॥

सुनियै ब्रज की दसा गुसाई ।
रथ की धुजा पीत-पट भूषन , देखत ही उठि धाई ॥
जो तुम कही जोग की बातैं, सो हम सबै बताईं ।
श्रवन मूँदि गुन-कर्म तुम्हारे, प्रेम मगन मन गाईं ॥
औरौ कछू सँदेस सखी इक, कहत दूरि लौं आई ।
हुतौ कछू हमहूँ सौं नातौ, निपट कहा बिसराई ॥
सूरदास प्रभु बन विनोद करि, जे तुम गाइ चराई ।
ते गाइ अब ग्वाल न घेरत , मानौ भईं पराई ॥3॥

ब्रज के बिरही लोग दुखारे ।
बिन गोपाल ठगे से ठाढ़ै, अति दुर्बल तन कारे ॥
नंद, जसोदा मारग जोवति , निसि-दिन साँझ, सकारे ।
चहुँ-दिसि कान्ह-कान्ह कहि टेरत, अँसुवन बहत पनारे ।
गोपी, ग्वाल, गाइ, गो सुत सब, अतिहीं दीन बिचारे ।
सूरदास-प्रभु बिनु यौं देखियत, चंद बिना ज्यौं तारे ॥4॥

सुनहु स्याम वै सब ब्रज-बनिता बिरह तुम्हारैं भईं बावरी ।
नाहीं बात और कहि आवति , छाँड़ि जहाँ लगि कथा रावरी ।
कबहुँ कहतिं हरि माखन खायौ, कौन बसै या कठिन गाँव री ।
कबहुँ कहतिं हरि ऊखल बाँधे, घर-घर ते लै चलौ दाँवरी ॥
कबहुँ कहतिं ब्रजनाथ बन गए, जोवत-मग भई दृष्टि झाँवरी ।
कबहुँ कहतिं वा मुरली महियाँ लै-लै बोलत हमरौ नाव री ॥
कबहुँ कहतिं ब्रजनाथ साथ तैं, चंद उयौ है इहै ठाँव री ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस बिनु, बवह मूरति भईं साँवरी ॥5॥

फिरि ब्रज बसौ नंदकुमार ।
हरि तिहारे बिरह राधा,भई तन जरि छार ॥
बिन अभूषन मैं जु देखी, परी है बिकरार ।
एकई रट रटत भामिनि, पीव पीव पुकार ॥
सजल लोचन चुअत उनके, बहति जमुना धार ।
बिरह अगिनि प्रचंड उनकै, जरे हाथ लुहार ॥
दूसरी गति और नाहीं, रटति बारंबार ।
सूर प्रभु कौ नाम उनकैं, लकुट अंध अधार ॥6॥

ब्रज तैं द्वै रितु पै न गई ।
ग्रीषम अरु पावस प्रवीन हरि, तुम बिनु अधिक भई ॥
ऊर्ध उसास समीर नैन घन, सब जल जोग जुरे ।
बरषि प्रगट-कीन्हे दुख दादुर, हुते जो दूरि दुरे ॥
विषम वियोग जु वृष दिनकर सम, हिय अति उदौ करै ।
हरि-पद बिमुख भए सुनि सूरज, को तन ताप हरै ॥7॥

दिन दस घौष चलहु गोपाल ।
गाइनि की अवसेरि मिटावहु, मिलहु आपने ग्वाल ॥
नाचत नहीं मोर ता दिन तैं, रटत न बरषा-काल ।
मृग दुबरे दरसन बिनु, सुनत न बेनु रसाल ॥
बृंदावन हर्‌यौ होत न भावत , देख्यौ स्याम तमाल ।
सूरदास मैया अनाथ है, घर चलियै नँदलाल ॥8॥

ऊधौ भलो ज्ञान समुझायौ ।
तुम मोसौं अब कहा कहत हौं, मैं कहि कहा पठायौ ॥
कहवावत हौ बड़े चतुर पै, उहाँ न कछु कहि आयौ ।
सूरदास ब्रजवासिन कौ हित, हरि हिय माँह दुरायौ ॥9॥

मै समुझाई अति अपनौ सौ ।
तदपि उन्हैं परतीति न उपजी, सबै लख्यौ सपनौ सौ ॥
कही तुम्हारी सबै कही मैं, और कही कछु अपनी ।
स्रवननि बचन सुनत भइ उनकैं, ज्यौं घृत नाऐँ अगनी ॥
कोऊ कहौ बनाइ पचासक, उनकी बात जु एक ।
धन्य-धन्य ब्रजनारि बापुरी, जिनकौ और न टेक ॥
देखत उमग्यौ प्रेम इहाँ कौ, धरै रहे सब ऊलौ ।
सूर स्याम हौं रह्यौ थक्यौ सौ, ज्यौं मृग चौका भूलौ ॥10॥

बातें सुनहु तौ स्याम सुनाऊँ ।
जुबतिनि सौं कहि कथा जोग की, क्यौं न इतौ दुख पाऊँ ॥
हौं पचि एक कहौं निरगुन की, ताहू मैं अटकाऊँ ।
वै उमड़ैं बारिधि के जल ज्यौं, क्यौं हूँ थाह न पाऊँ ॥
कौन कौन कौ उत्तर दीजै, ताते भज्यौ अगाऊँ ।
वै मेरे सिर पटिया पारैं, कथा काहि उढ़ाऊँ ॥
एक आँधरौ, हिय की फूटी, दौरत पहिरि खराऊँ ।
सूर सकल षट दरसन वै, हौं बारइखरी पढ़ाऊँ ॥11॥

कहिबे मैं न कछू सक राखी ।
बुद्धि बिबेक अनुमान आपनैं, मुख आई सो भाषी ॥
हौं मरि एक कहौं पहरक मैं, वै पल माहिं अनेक ।
हारि मानि उठि चल्यौ दीन ह्वै, छाँड़ि आपनी टेक ॥
हौं पठयो कतहीं बेकाजै सठ मूरख जु अयानौ ।
तुमहिं बूझ बहुतै बातनि की, उहाँ जाहु तौ जानौं ॥
श्री मुख के सिखाए ग्रंथादिक, ते सब भए कहानी ।
एक होइ तौ उत्तर दीजै, सूर सु मठी उफानी ॥12॥

कोऊ सुनत न बात हमारी ।
मानैं कहा जोग जादवपति, प्रगट प्रेम ब्रजनारी ॥
कोऊ कहतिं हरि गए कुंज बन, सैन धाम वै देत ।
कोऊ कहतिं हरि गए कुंज बन, सैन धाम वै देत ।
कोऊ कहतिं इंद्र बरषा तकि, गिरि गोबर्धन लेत ॥
कोउ कहतिं नाग काली सुनि, हरि गए जमुना तीर ।
कोऊ कहतिं अघासुर मारन, गए संग बलबीर ॥
कोऊ कहत ग्वाल बालनि सँग, खेलत बनहिं लिकाने ।
सूर सुमिरि गुन णाथ तुम्हारे, कोऊ कह्यो न माने ॥13॥

माधौ जू कहा कहौं उनकी गति ।
देखत बनै कहत नहिं आवै, अति प्रतीति तुम तैं रति ॥
जद्यपि हौं षट मास रह्यौ ढिग, लही नहीं उनकी मति ।
तासौं कहौं सबै एकै बुधि, परमोघौ नहिं मानति ॥
तुम कृपाल करुनामय कहियत, तातैं मिलत कहा छति ।
सूरदास प्रभु सोई कीजै जातैं तुम पावहु पति ॥14॥

ब्रज मै एकै धरम रह्यौ ।
स्रुति सुमृति और बेद पुराननि, सबै गोविन्द कह्यौ ।
बालक बृद्ध तरुन अबलनि कौ, एक प्रेम निबह्यौ ।
सूरदास प्रभु छाड़ि जमुन जल, हरि की सरन गह्यौ ॥15॥

तब तैं इन सबहिनि सचु पायौ ॥
जब तैं हरि सँदेस तुम्हारौ, सुनत ताँवरौ आयौ ॥
फूले ब्याल दुरे ते प्रगटे, पवन पेट भरि खायौ ॥
खोले मृगनि चौक चरननि के, हुतौ जु जिय बिसरायौ ॥
ऊँचे बैठि बिहग सभा मैं, सुक बनराइ कहायौ ॥
किलकि-किलकि कुल सहित आपनैं, कोकिल मंगल गायौ ॥
निकसि कंदराहू तैं केहरि, पूँछ मूड़ पर ल्यायौ ॥
गहवर तैं गजराज आइकै, अँगहिं गर्व बढ़ायौ ॥
अब जनि गहरु करहु हो मोहन, जो चाहत हौ ज्यायौ ।
सूर बहुरि ह्वै है राधा कौं, सब बैरिनि कौ भायौ ॥16॥

माधो जू मैं अतिही सचु पायौ ।
अपनो जाति सँदेस ब्याज करि, ब्रज जन मिलन पठायौ ॥
छमाकरौ तौ करौं बीनती, उनहिं देखि जौ आयौ ।
श्रीमुख ग्यान पथ जौ उचर्‌यौ, सो पै कछु न सुहायौ ॥
सकल निगम सिद्धांत जन्म क्रम, स्यामा सहज सुनायौ ।
नहिं स्रुति, सेष, महेस प्रजापति, जो रस गोपिन गायो ॥
कटुक कथा लागी मोहिं मेरी, वह रस सिंधु उम्हायौ ।
उत तुम देखे और भाँति मैं, सकल तृषा जु बुझायौ ॥
तुम)हरौ अकत कथा तुम जानौ, हम जन नाहिं बसायो ।
सूर स्याम सुंदर यह सुनि कै, नैननि नीर बहायौ ॥17॥

ब्रज मैं संभ्रम मोहिं भयौ ।
तुम्हरौ ज्ञान संदेसौ प्रभु जू, सब जु भूलि गयौ ॥
तुमहीं सौं बालक किसोर बपु, मैं घर-घर प्रति देख्यौ ।
मुरलीधर घन स्याम मनोहर, अद्भुत नटवर पेख्यौ ॥
कौतुक रूप ग्वाल बृंदनि सँग, गाइ चरावन जात ।
साँझ प्रभातहिं गौ दोहन मिस, चोरी माखन खात ॥
नँद-नंदन अनेक लीला करि, गोपिनि चित्त चुरावत ।
वह सुख देखि जु नैन हमारे, ब्रह्म न देख्यौ भावत ॥
करि करुना उन दरसन दीन्हौं, मैं पचि जोग बह्यौ ।
छन मानहु षट्मास सूर प्रभु, देखत भूलि रह्यौ ॥18॥

ब्रज मैं एक अचंभौ देख्यौ ।
मोर मुकुट पीतांबर धारे, तुम गाइनि सँग पेख्यौ ॥
गोप बाल सँग धावत तुम्हारें, तुम घर घर प्रति जात ।
दूध दहीऽरु महीं लै ढ़रत, चोरी माखन खात ॥
गोपी सब मिलि पकरतिं तुमकौ, तुम छुड़ाइ कर भागत ।
सूर स्याम नित प्रति यह लीला, देखि देखि मन लागत ॥19॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki