FANDOM

१२,२६२ Pages

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


मैं ब्रजबासिन की बलिहारी ।
जिनके संग सदा क्रीड़त हैं, श्री गोबरधन-धारी ॥
किनहूँ कैं घर माखन चोरत, किनहूँ कैं संग दानी ।
किनहूँ कैं सँग धेनु चरावत, हरि की अकथ कहानी ॥
किनहूँ कैं सँग जमुना कै तट, बशी टेरि सुनावत ।
सूरदास बलि-बलि चरननि की, यह सुख मोहिं नित भावत ॥1॥

हौं इन मोरनि की बलिहारी ।
जिनकी सुभग चंद्रिका माथैं, धरत गोबरधनधारी ॥
बलिहारी वा बाँस-बंस की, बंसी सी सुकुमारी ।
सदा रहति है कर जु स्याम कैं, नैकहुँ होति न न्यारी ॥
बलिहारी वा गुंज-जाति की, उपजी जगत उज्यारी ।
सुन्दर हृदय रहत मोहन कैं, कबहूँ टरत न टारी ॥
बलिहारी कुल सैल सरति जिहिं, कहत कलिंद-दुलारी ।
निसि-दिन कान्ह अंग आलिंगन आपुनहुँ भई कारी ॥
बलिहारी वृंदावन भूमिहिं, सुतौ भाग की सारी ।
सूरदास प्रभुन नाँगे पाइनि, दिन प्रति गैया चारी ॥2॥

हम पर हेत किये रहिबौ ।
या ब्रज कौ ब्यौहार सखा तुम, हरि सौं सब कहिबौ ॥
देखे जात आपनी अँखियन, या तन को दहिबौ ।
तन की बिथा कहा कहौं तुमसौं, यह हमकौं सहिबौ ॥
तब न कियौ प्रहार प्राननि कौ, फिरि फिरि क्यौं चहिबौ ।
अब न देह जरि जाइ सूर इनि नैननि कौ बहिबौ ॥3॥

स्वामी पहिलौ प्रेम सँभारौ ।
ऊधौ जाइ चरन गहि कहियै, जी तैं हित न उतारौ ॥
जो तुम मधुबन राज काज भए, गोकुल हम न अधारौ ॥
कमल नयन सो चैन न देखौ, नित उठि गोधन चारौ ॥
ये ब्रज लोग मया के सेवक, तिनसौं क्यौं न बिहारौ ।
सूरदास प्रभु एक बार मिलि, सकल बिरह दुख टारौ ॥4॥

इतनी बात अलि कहियौ हरि सौं, कब लगि यह मन दुख मैं गारैं ।
पथ जोहत तन कोकिल बरन भइँ, निसि न नींद पिय पियहिं पुकारैं ॥
जा दिन तैं बिछुरे नँद-नंदन, अति दुख दारुन क्यौं निरबारैं ।
सूरदास प्रभु बिनु यह बिपदा, काकौ दरसन देखि बिसारैं ॥5॥

ऊधौ जू, कहियौ तुम हरि सौं जाइ, हमारे हिय की दरद ।
दिन नहिं चैन, रैन नहिं सोवति, पावक भई जुन्हाई सरद ॥
जबतैं लै अक्रुर गए हैं, भई बिरह तन बाइ छरद ।
काम प्रबल जाके अति ऊधौ, सोचत भइ जस पीत हरद ॥
सखा प्रवीन निरंतर हरि के, तातैं कहति हैं खोलि परद ।
ध्यावतिं रूप दरस तजि हरि कौ, सूर मूरि बिनु होतिं मुरद ॥6॥

ऊधौ इक पतिया हमरी लीजै ।
चरन लागि गोविंद सौं कहियौ, लिखौ हमारौ दीजै ॥
हम तौ कौन रूप गुन आगरि, जिहिं गुपाल जू रीझैं ।
निरखत नैन-नीर भरि आए, अरु कंचुकि पट भीजैं ॥
तलफत रहति मीन चातक ज्यौं,जल बिनु तृषा न छीजै ।
अति ब्याकुल अकुलातिं बिरहिनी, सुरति हमारी कीजै ॥
अँखियाँ खरी निहारतिं मधुबन, हरि-बिनु बिष पीजै ।
सूरदास-प्रभु कबहिं मिलैंगे, देखि देखि मुख जीजै ॥7॥

हम मति हीन कहा कछु जानैं, ब्रजबासिनी अहीर ।
वै जु किसोर नवल नागर तन, बहुत भूप की भीर ॥
बचन की लाज सुरति करि राखौं, तुम अलि इतनौ कहियौ ।
भली भई जो दूत पठायौ, इतनौ बोल निबहियौ ॥
एक बार तौ मिलौ कृपा करि, जौ अपनौ ब्रज जानौ ।
यहै रीति संसार सबनि की, कहा रंक कह रानौ ॥
हम अनाथ तुम नाथ गुसाईं, क्यौं, नहिं सोई ।
षट रितु ब्रज पै आनि पुकारैं, सूरदास अब कोई ॥8॥

नंदनँदन सौं इतनी कहियौ ।
जद्यपि ब्रज अनाथ करि डार्‌यौ, तद्यपि सुरति किये चित रहियौ ।
तिनका तोर करहु जनि हम सौं, एक बास की लाज निबहियौ ।
गुन आँगुननि दोष नहिं कीजतु, हम दासिनि की इतनी सहियौ ॥
तुम बिनु प्रान कहा हम करिहैं, यह अवलंब न सुपनेहु लहियौ ।
सूरदास पाती लिखि पठई, जहाँ प्रीति तहँ ओर निबहियौ ॥9॥

बिनु गुपाल बैरिनि भईं कुंजै ।
तब वै लता लगति तन सीतल, अब भईं बिषम ज्वाल की पुंजैं ॥
वृथा बहति जमुना, खग बोलत वृथा कमल-फूलनि अलि गुंजैं ।
पवन, पान, घनसार, सजीवन, दधि-सुत किरनि भानु भईं भुंजैं ॥
यह ऊधौ कहियौ माधौ सौं,मदन मारि कीन्हीं हम लुंजैं ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस कौं, मग-जोवत अँखियाँ भईं छुंजै ॥10॥

ऊधौ इतनी कहियौ बात ।
मदन गुपाल बिना या ब्रज मैं, होन लगे उतपात ॥
तृनावर्त , बक, बकी, अघासुर , धेनुक फिरि फिरि जात ।
ब्योम, प्रलंब, कंस केसी इत, करत जिअनि की घात ॥
काली काल-रूप दिखियत है, जमुना जलहिं अन्हात ।
बरुन फाँस फाँस्यौ चाहत है, सुनियत अति मुरझात ॥
इंद्र आपने परिहँस कारन, बार-बार अनखात ।
गोपी,गाइ, गोप, गोसुत सब, थर थर काँपत गात ।
अंचल फारति जननि जसोदा, पाग लिये कर तात ।
लागौ बेगि गुहारि सूर प्रभु, गोकुल बैरिनि घात ॥11॥

ऊधौ इतनी कहियौ जाइ ।
अति कृस गात भईं ये तुम बिनु, परम दुखारी गाइ ॥
जल समूह बरषतिं दोउ अँखियाँ, हूँकति लौन्है नाउँ ।
जहाँ जहाँ गो दोहन कीन्हौ, सूँघति सोई ठाउँ ।
परति पछार खाइ छिन ही छिन, अति आतुर ह्वै दीन ।
मानहु सूर काढ़ि डारी हैं, बारि मध्य तैं मीन ॥12॥

अति मलीन बृषभानुकुमारी ।
हरि स्रम -जल भींज्यौ उर-अंचल, तिहिं लालच न धुवावति सारी ॥
अध मुख रहति अनत नहिं चितवति, ज्यौं गथ हारे थकित जुवारी ।
छुटे चिकुर बदन कुम्हिलाने, ज्यौ नलिनी हिमकर की मारी ॥
हरि सँदेस सुनि सहज मृतक भइ, इक बिरहिनि , दूजे अलि जारी ।
सूरदास कैसें करि जीवैं, ब्रज बनिता बिन स्याम दुखारी ॥13॥

ऊधौ तिहारे पा लागति हौं , बहुरिहुँ इहिं ब्रज करबी भाँवरी ।
निसि न नींद भोजन नहीं भावै; चितवत मग भइ दृष्टि झाँवरी ॥
वहै वृंदावन, बहै कुँज-धन, वहै जमुना वहै सुभग साँवरी ।
एक स्याम बिनु कछु न भावै, रटति फिरतिं ज्यौं बकति बावरी ॥
चलि न सकति मग डुलत धरत -पग, आवति बैठत उठत ताँवरी ।
सूरदास-प्रभु आनि मिलावहु,जग मैं कीरति होइ रावरी ॥14॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on FANDOM

Random Wiki