Fandom

Hindi Literature

उस बज़्म में मुझे नहीं बनती हया किये / ग़ालिब

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

उस बज़्म में मुझे नहीं बनती हया किये
बैठा रहा अगर्चे इशारे हुआ किये

दिल ही तो है सियासत-ए-दर्बाँ से डर गया
मैं और जाऊँ दर से तेरे बिन सदा किये

रखता फिरूँ हूँ ख़ीर्क़ा-ओ-सज्जादा रहन-ए-मै
मुद्दत हुई है दावत-ए-आब-ओ-हवा किये

बेसर्फ़ा ही गुज़रती है, हो गर्चे उम्र-ए-ख़िज़्र
हज़रत भी कल कहेंगे कि हम क्या किया किये

मक़दूर हो तो ख़ाक से पूछूँ के अए लैइम
तूने वो गंज हाये गिराँमाया क्या किये

किस रोज़ तोहमतें न तराशा किये अदू
किस दिन हमारे सर पे न आरे चला किये

सोहबत में ग़ैर की न पड़ी हो कहीं ये ख़ू
देने लगा है बोसे बग़ैर इल्तिजा किये

ज़िद की है और बात मगर ख़ू बुरी नहीं
भूले से उस ने सैकड़ों वादे-वफ़ा किये

"ग़ालिब" तुम्हीं कहो कि मिलेगा जवाब क्या
माना कि तुम कहा किये और वो सुना किये

Also on Fandom

Random Wiki