Fandom

Hindi Literature

ओ मेरे घर / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


ओ मेरे घर
ओ हे मेरी पृथ्वी
साँस के एवज़ तूने क्या दिया मुझे

-ओ मेरी माँ ?

तूने युद्ध ही मुझे दिया

प्रेम ही मुझे दिया क्रूरतम कटुतम

और क्या दिया

मुझे भगवान दिए कई-कई
मुझसे भी निरीह मुझसे भी निरीह !

और अद्भुत शक्तिशाली मकानिकी प्रतिमाएँ !

ऐसी मुझे ज़िंदगी दी
ओह
आँखें दीं जो गीली मिट्टी का बुदबुद-सी हैं
और तारे दिए मुझे अनगिनती

साँसों की तरह
अनगिनती इकाइयों में
मुझसे लगातार दूर जाते

मौत की व्यर्थ प्रतीक्षाओं-से !

और दी मुझे एक लंबे नाटक की
हँसी
फैली हुई
दर्शकशाला के इस छोर से उस छोर तक
लहराती कटु-क्रर

फिर मुझे जागना दिया, यह कहकर कि
लो और सोओ
और वही तलवार अँधेरे की

अंतिम लोरियों के बजाय !

इन्सान के अँखौटे में डालकर मुझे

सब कुछ तो दे दियाः

जब मुझे मेरे कवि का बीज दिया कटु-तिक्त।

फिर एक ही जन्म में और क्या-क्या

चाहिए !

Also on Fandom

Random Wiki