Fandom

Hindi Literature

कभी ख़ुद पे कभी हालात पे रोना आया / साहिर लुधियानवी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


कभी ख़ुद पे, कभी हालात पे रोना आया ।

बात निकली तो हर एक बात पे रोना आया ॥


हम तो समझे थे कि हम भूल गए हैं उन को ।

क्या हुआ आज, यह किस बात पे रोना आया ?


किस लिए जीते हैं हम, किसके लिए जीते हैं ?

बारहा ऎसे सवालात पे रोना आया ॥


कौन रोता है किसी और की ख़ातिर, ऎ दोस्त !

सब को अपनी ही किसी बात पे रोना आया ॥

Also on Fandom

Random Wiki