Fandom

Hindi Literature

करती है पानी-पानी / रमा द्विवेदी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


मर्यादाएं न टूटें,इतना भी त्रास न दो।
कोई नारी बने अम्बिका इतना भी उपहास न दो॥

एक बार भीष्म ने नारी अधिकार का हरण किया था।
वह नारी तब बनी शिखण्डी,अरु अपना प्रतिशोध लिया था॥

इसलिए कभी ऐसा मत करना,कि कर न सको प्रायश्चित भी।
अंजाम भोगना पड़ता है,हर कुकृत्य का निश्चित ही॥

कोमलता को कमजोर समझना यह है तेरी नादानी।
आती है बाढ़ नदी में जब जग को करती है पानी-पानी॥

दुष्टों ने उत्पात मचाया,फिर भी धरती थमी रही है।
जब-जब धरती हुई प्रकंपित,सृष्टि में खलबली मची है॥

Also on Fandom

Random Wiki