Fandom

Hindi Literature

कान्ह चलत पग द्वै-द्वै धरनी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धनाश्री

कान्ह चलत पग द्वै-द्वै धरनी ।
जो मन मैं अभिलाष करति ही, सो देखति नँद-घरनी ॥
रुनुक-झुनुक नूपुर पग बाजत, धुनि अतिहीं मन-हरनी ।
बैठि जात पुनि उठत तुरतहीं सो छबि जाइ न बरनी ॥
ब्रज-जुवती सब देखि थकित भइँ, सुंदरता की सरनी ।
चिरजीवहु जसुदा कौ नंदन सूरदास कौं तरनी ॥

भावार्थ :-- कन्हाई अब पृथ्वीपर दो-दो पग चल लेता है । श्रीनन्द-रानी अपने मन में जो अभिलाषा करती थीं, उसे अब (प्रत्यक्ष) देख रही हैं । (मोहन के) चरणों में रुनझुन नूपुर बजते हैं जिनकी ध्वनि मन को अतिशय हरण करने वाली है । वे बैठ जाते हैं और फिर तुरंत उठ खड़े होते हैं - इस शोभा का तो वर्णन ही नहीं हो सकता । सुन्दरता के इस अद्भुत ढंग को देखकर व्रज की सब युवतियाँ थकित हो गयी हैं । सूरदास के लिये (भवसागर की) नौका-रूप श्रीयशोदानन्दन चिरजीवी हों ।

Also on Fandom

Random Wiki