Fandom

Hindi Literature

काल तुझ से होड़ है मेरी (कविता) / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER काल,

तुझसे होड़ है मेरी : अपराजित तू-

तुझमें अपराजित मैं वास करूं ।

इसीलिए तेरे हृदय में समा रहा हूं

सीधा तीर-सा, जो रुका हुआ लगता हो-

कि जैसा ध्रुव नक्षत्र भी न लगे,

एक एकनिष्ठ, स्थिर, कालोपरि

भाव, भावोपरि

सुख, आनंदोपरि

सत्य, सत्यासत्योपरि

मैं- तेरे भी, ओ' 'काल' ऊपर!

सौंदर्य यही तो है, जो तू नहीं है, ओ काल !


जो मैं हूं-

मैं कि जिसमें सब कुछ है...


क्रांतियां, कम्यून,

कम्यूनिस्ट समाज के

नाना कला विज्ञान और दर्शन के

जीवंत वैभव से समन्वित

व्यक्ति मैं ।


मैं, जो वह हरेक हूं

जो, तुझसे, ओ काल, परे है


('काल तुझ से होड़ है मेरी' नामक कविता-संग्रह से)

Also on Fandom

Random Wiki