Fandom

Hindi Literature

कोई फूल / बशीर बद्र

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

कवि: बशीर बद्र

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

कोई फूल धूप की पत्तियों में हरे रिबन से बंधा हुआ ।

वो ग़ज़ल का लहजा नया-नया, न कहा हुआ न सुना हुआ ।


जिसे ले गई अभी हवा, वे वरक़ था दिल की किताब का,

कहीँ आँसुओं से मिटा हुआ, कहीं, आँसुओं से लिखा हुआ ।


कई मील रेत को काटकर, कोई मौज फूल खिला गई,

कोई पेड़ प्यास से मर रहा है, नदी के पास खड़ा हुआ ।


मुझे हादिसों ने सजा-सजा के बहुत हसीन बना दिया,

मिरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेंहदियों से रचा हुआ ।


वही शहर है वही रास्ते, वही घर है और वही लान भी,

मगर इस दरीचे से पूछना, वो दरख़्त अनार का क्या हुआ ।


वही ख़त के जिसपे जगह-जगह, दो महकते होटों के चाँद थे,

किसी भूले बिसरे से ताक़ पर तहे-गर्द होगा दबा हुआ ।


रचनाकाल - 1975

Also on Fandom

Random Wiki