Fandom

Hindi Literature

कोई बरसन लागी काली बादली! / हरियाणवी

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































मोटा पाठ[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षकमीडिया:उदाहरण.ogg Edit

]]
[[[कड़ी शीर्षक]

चित्र:शीर्षक[[मीडिया:पार्स नहीं कर पायें (लेक्सींग समस्या): उदाहरण.ogg --~~~~अप्रारूपित सामग्री यहाँ डालें ---- ]] Edit

]]== शीर्षक == साँचा:KKLokGeetBhaashaSoochi

कोई बरसन लागी काली बादली !

"डौलै तै डौलै, हालीड़ा, मैं फिरी

मन्ने किते न पाया थारा खेत ।"

बरसन लागी काली बादली !

"कोई चार बुलदांका, हालीड़ा, नीरना

दोए जणिएँ की छाक !"

बरसन लागी काली बादली !

"कितरज बोया, हालीड़ा, बाजरा ?

कोई कितरज बोई जवार ?"

बरसन लागी काली बादली !

"थलियाँ तै बोया, गोरी धन, बाजरा,

कोई डेराँ बोई जवार"

बरसन लागी काली बादली !


भावार्थ


--'देखो, काली बदली बरसने लगी है । "अजी ओ किसान, मैं मेंड़-मेंड़ पर घूमी-फिरी, तुम्हारा खेत मुझे कहीं

नहीं मिला ।" और काली बदली बरसने लगी है । " चार बैलों के लिए मैं भूसा लाई हूँ, दो आदमियों के पीने

लायक छाछ ।" और काली बदली यह बरसने लगी है ।

--"गोरी धन, ज़रा किसी ऊँची मेड़ पर चढ़ कर निहारो, मेरे गोरे बैल के गले में बड़ी घंटी भी तो बज रही है ।"

फिर काली बदली बरसने लगी है ।

--"अजी ओ किसान, किस तरफ़ तुमने बाजरा बोया है ? और कहाँ बोई है जवार ?" काली बदली बरसने लगी

है ।

--"गोरी धन, ऊपर के खेत में बाजरा बोया है और्नीचे के खेत में जवार ।"और काली बदली बरसने रही है ।'

Also on Fandom

Random Wiki