Fandom

Hindi Literature

क्रीड़त प्रात समय दोउ बीर / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

क्रीड़त प्रात समय दोउ बीर ।
माखन माँगत, बात न मानत, झँखत जसोदा-जननी तीर ॥
जननी मधि, सनमुख संकर्षन कैंचत कान्ह खस्यो सिर-चीर ।
मनहुँ सरस्वति संग उभय दुज, कल मराल अरु नील कँठीर ॥
सुंदर स्याम गही कबरी कर, मुक्त-माल गही बलबीर ।
सूरज भष लैबे अप-अपनौ, मानहुँ लेत निबेरे सीर ॥

भावार्थ :-- सवेरे के समय दोनों भाई खेल रहे हैं ! वे माखन माँग रहे हैं और मैया यशोदा से झगड़ रहे हैं, उसकी कोई दूसरी बात मान नहीं रहे हैं ! मैया बीच में है, बलराम उसके आगे हैं और पीछे से कन्हाई के खींचने से माता के मस्तक का वस्त्र खिसक गया है । ऐसा लगता है मानो सरस्वती के संग बाल-हंस और मयूर-शिशु ये दोनों पक्षी क्रीड़ा करते हों । श्यामसुन्दर ने माता की चोटी हाथों में पकड़ रखी है और बलराम जी मोती की माला पकड़कर खींच रहे हैं । सूरदास जी कहते हैं कि मानो अपना-अपना आहार (सर्प और मोती) लेने के लिये दोनों पक्षी (मयूर और हंस)अपने हिस्से का बँटवारा किये लेते हों ।

Also on Fandom

Random Wiki