Fandom

Hindi Literature

खड़ी बोली / रघुवीर सहाय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































रचनाकार: रघुवीर सहाय

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


भाषा की ऊष्मा से फूटते नहीं है शब्द

भीगी पोटली म्रं अब ।

कविता बनाकर मैं मोड़ कर रख देता रहा हूं

दो दिन में खोल कर पढ़ लेता रहा हूं

आड़े तिरछे अंखुए चिटख़ी दरारों में झांकते मिले हैं ।

आज यह नहीं हुआ

सावधान !

क्या खड़ी बोली में अनजाना शब्द अब

नहीं रहा

जिसको परम्परा देती थी ?


('कुछ पते कुछ चिट्ठियां' नामक कविता-संग्रह से )

Also on Fandom

Random Wiki