Fandom

Hindi Literature

खेलत कान्ह चले ग्वालनि सँग / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग बिलावल

खेलत कान्ह चले ग्वालनि सँग ।
जसुमति यहै कहत घर आई, हरि कीन्हे कैसे रँग ॥
प्रातहि तैं लागे याही ढँग, अपनी टेक कर्‌यौ है ।
देखौ जाइ आजु बन कौ सुख, कहा परोसि धर्‌यौ है ॥
माखन -रोटी अरु सीतल जल, जसुमति दियौ पठाइ ।
सूर नंद हँसि कहत महरि सौं , आवत कान्ह चराइ ॥

भावार्थ :-- कन्हाई खेलते हुए गोप-बालकों के साथ चल पड़े । यशोदा जी यह कहते हुए घर लौट आयीं कि `श्याम ने आज कैसा ढंग पकड़ा । सबेरे से इसी धुन में लगा था और(अन्त में) अपनी हठ पूरी करके रहा है । आज जाकर वन का सुख भी देख लो कि वहाँ क्या परोसकर रखा है ।' मक्खन, रोटी और शीतल जल यशोदा जी ने (वन में) भेज दिया । सूरदास जी कहते हैं कि नन्द जी हँसके व्रजरानी से कह रहे हैं --`कन्हाई को गायें चराने आता है ।'

Also on Fandom

Random Wiki