Fandom

Hindi Literature

खेलत नँद -आँगन गोबिंद / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धनाश्री

खेलत नँद -आँगन गोबिंद ।
निरखि-निरखि जसुमति सुख पावति, बदन मनोहर इंदु ॥
कटि किंकिनी चंद्रिका मानिक, लटकन लटकत भाल ।
परम सुदेस कंठ केहरि-नख, बिच-बिच बज्र प्रवाल ॥
कर पहुँची, पाइनि मैं नूपुर, तन राजत पट पीत ।
घुटुरुनि चलत, अजिर महँ बिहरत, मुख मंडित नवनीत ॥
सूर बिचित्र चरित्र स्याम कै रसना कहत न आवैं ।
बाल दशा अवलोकि सकल मुनि, जोग बिरति बिसरावैं ॥

भावार्थ :-- गोविन्द व्रजराज श्रीनन्द जी के आँगन में खेल रहे हैं । माता यशोदा उनके चन्द्रमा के समान सुन्दर मुख को देख-देखकर अत्यन्त आनन्द पा रही हैं । मोहन की कटि में किंकिणी (करधनी) है । मस्तक पर चन्द्रिका है जिसके माणिक की लटकन ललाट झूल रही है । अत्यन्त सुन्दर कण्ठ में बघनखा पहनाया है, जिसकी माला में बीच-बीच में हीरे और मूँगे लगे हैं । हाथों में पहुँची (गहना) है, चरणों में नूपुर हैं, शरीर पर पीताम्बर शोभा दे रहा है । आँगन में घुटनों से चलते हुए क्रीड़ा कर रहे हैं, मुख में माखन लगा है । सूरदास जी कहते हैं कि श्यामसुन्दर की विचित्र लीला का वर्णन जिह्वा से हो नहीं पाता है । उनकी बालक्रीड़ा को देखकर सभी मुनिगण अपने योग तथा वैराग्य को भूल जाते हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki