Fandom

Hindi Literature

खेलन अब मेरी जाइ बलैया / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

खेलन अब मेरी जाइ बलैया सूरदास श्रीकृष्णबाल-माधुरी राग गौरी


खेलन अब मेरी जाइ बलैया ।
जबहिं मोहि देखत लरिकन सँग, तबहिं खिजत बल भैया ॥
मोसौं कहत तात बसुदेव कौ देवकि तेरी मैया ।
मोल लियौ कछु दै करि तिन कौं, करि-करि जतन बढ़ैया ॥
अब बाबा कहि कहत नंद सौं, जकसुमति सौं कहै मैया ।
ऐसैं कहि सब मोहि खिझावत, तब उठि चल्यौ खिसैया ॥
पाछैं नंद सुनत हे ठाढ़े, हँसत हँसत उर लैया ।
सूर नंद बलरामहि धिरयौ, तब मन हरष कन्हैया ॥

भावार्थ :-- (श्यामसुन्दर कहते हैं)` अब मेरी बला खेलने जाय ( मैं तो खेलने जाऊँगा नहीं )। जब भी भैया बलराम मुझे लड़कों के साथ खेलते देखते हैं, तभी झगड़ने लगते हैं;मुझसे कहते हैं--`तू वसुदेव जी का पुत्र है, तेरी माता देवकी है उन्हें कुछ देकर (व्रजराज ने) तुझे मोल ले लिया और अनेक उपाय करके बड़ा किया । अब तू श्रीनन्द जी को बाबा कहकर पुकारता है और श्रीयशोदा जी को मैया कहता है । इस प्रकार की बातें कहकर सब मुझे चिढ़ाते हैं, इससे रुष्ट होकर मैं वहाँ से उठकर चला आया ।' पीछे खड़े नन्द जी यह सुन रहे थे, उन्होंने हँसते-हँसते मोहन को हृदय से लगा लिया । सूरदास जी कहते हैं कि श्रीनन्द जी ने बलराम जी को डाँटा, तब कन्हाई मन में प्रसन्न हुए ।

Also on Fandom

Random Wiki