Fandom

Hindi Literature

खेलन कौं हरि दूरि गयौ री / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धनाश्री


खेलन कौं हरि दूरि गयौ री ।
संग-संग धावत डोलत हैं, कह धौं बहुत अबेर भयौ री ॥
पलक ओट भावत नहिं मोकौं, कहा कहौं तोहि बात ।
नंदहि तात-तात कहि बोलत, मोहि कहत है मात ॥
इतनी कहत स्याम-घन आए , ग्वाल सखा सब चीन्हे ।
दौरि जाइ उर लाइ सूर-प्रभु हरषि जसोदा लीन्हें ॥

भावार्थ :-- (माता कहती हैं-) `सखी! श्याम खेलने के लिये दूर चले गये । सखाओं के साथ पता नहीं कहाँ-कहाँ दौड़ते-घूमते हैं, बहुत देर हो गयी (घर से गये) सखी! तुमसे क्या बात कहूँ, नेत्रों से उनका ओझल होना ही मुझे अच्छा नहीं लगता । व्रजराज को वे `बाबा, बाबा' कहते हैं और मुझे `मैया' कहते हैं । सूरदास जी कहते हैं कि इतने में ही अपने परिचित ग्वाल-बाल सखाओं के साथ श्यामसुन्दर आ गये, माता यशोदा ने हर्ष से दौड़कर पास जाकर उन्हें हृदय से लगा लिया ।

Also on Fandom

Random Wiki