Fandom

Hindi Literature

खेलन जाहु बाल सब टेरत / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग सारंग


खेलन जाहु बाल सब टेरत।
यह सुनि कान्ह भए अति आतुर, द्वारैं तन फिरि हेरत ॥
बार बार हरि मातहिं बूझत, कहि चौगान कहाँ है ।
दधि-मथनी के पाछै देखौ, लै मैं धर्‌यौ तहाँ है ॥
लै चौगान-बटा अपनैं कर, प्रभु आए घर बाहर ।
सूर स्याम पूछत सब ग्वालनि, खेलौगे किहिं ठाहर ॥


भावार्थ ;-- (माता ने कहा-) `लाल ! खेलने जाओ, सब बालक तुम्हें पुकार रहे हैं ।'यह सुनकर कन्हाई अत्यन्त आतुर हो उठे । बार-बार द्वार की ओर देखने लगे । बार बार मोहन मैया से पूछने लगे -`मेरा गेंद, खेलने का बल्ला कहाँ है ?' (माता ने कहा--) दही के माटके पीछे देखो, मैंने लेकर वहाँ रख दिया है ।' अपने हाथ में बल्ला और गेंद लेकर मोहन घर से बाहर आये । सूरदास जी कहते हैं - श्यामसुन्दर सब ग्वाल-बालकों से पूछ रहे हैं- `किस स्थान पर खेलोगे?'

Also on Fandom

Random Wiki