Fandom

Hindi Literature

गाओ / त्रिलोचन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

मेरे उर के तार बजा कर जब जी चाहा
तुम ने गाया गीत। मौन मैं सुनने वाला
कृपापात्र हूँ सदा तुम्हारा, चुनने वाला
स्वर-सुमनों का। भीड़ भरा है, जो चौराहा

दुनिया का, उस में केवल अस्फुट कोलाहल
सुन पड़ता है। किस को है अवकाश, तुम्हारा
गान सुने, बदले अपने जीवन की धारा
अमृत-स्रोत की ओर। आह, भीषण हालाहल

समा गया है साँस साँस में घृणा-द्वेष का।
देख रहा हूँ व्यक्ति-समाज-राष्ट्र की घातें
एक दूसरे पर कठोरता, थोथी बातें
संधि-शांति की। विजय है दल दंभ-त्वेष का।

गाओ, मन के तारों पर, जी भर कर गाओ
जहाँ मरण का सन्नाटा है जीवन लाओ।

Also on Fandom

Random Wiki