Fandom

Hindi Literature

गोद खिलावति कान्ह सुनी, बड़भागिनि हो नँदरानी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग कान्हरौ


गोद खिलावति कान्ह सुनी, बड़भागिनि हो नँदरानी ।
आनँद की निधि मुख जु लाल कौ, छबि नहिं जाति बखानी ॥
गुन अपार बिस्तार परत नहिं कहि निगमागम-बानी ।
सूरदास प्रभु कौं लिए जसुमति,चितै-चितै मुसुकानी ॥


सुना है कि महाभाग्यवती श्रीनन्दरानी कन्हैया को गोद में लेकर खेलाती थीं । लाल का मुख तो आनंद की निधि (कोष) है, उसकी शोभा का वर्णन नहीं किया जा सकता । उनके गुण अपार हैं, वेद और शास्त्रों के द्वारा भी उनके विस्तार का वर्णन नहीं हो सकता है । सूरदास जी कहते हैं कि मेरे ऐसे स्वामी को गोद में लेकर यशोदा जी उन्हें देख-देखकर मुसकराती (हर्षित होती) थी ।

Also on Fandom

Random Wiki