Fandom

Hindi Literature

गोपालराइ दधि माँगत अरु रोटी / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

गोपालराइ दधि माँगत अरु रोटी ।
माखन सहित देहि मेरी मैया, सुपक सुकोमल रोटी ॥
कत हौ आरि करत मेरे मोहन, तुम आँगन मैं लोटी?
जो चाहौ सो लेहु तुरतहीं, छाँड़ौ यह मति खोटी ॥
करि मनुहारि कलेऊ दीन्हौ, मुख चुपर्‌यौ अरु चोटी ।
सूरदास कौ ठाकुर ठाढ़ौ, हाथ लकुटिया छोटी ॥

गोपालराय दही और रोटी माँग रहे हैं । (वे कहते हैं-) `मैया। अच्छी पकी हुई और खूब कोमल रोटी मुझे मक्खन के साथ दे ।' (माता कहती हैं -)`मेरे मोहन ! तुम आँगन में लोटकर मचलते क्यों हो, यह बुरा स्वभाव छोड़ दो । जो इच्छा हो वह तुरंत लो।' निहोरा करके (माता ने) कलेऊ दिया और फिर मुख तथा अलकों में तेल लगाया । सूरदास जी कहते हैं कि अब (कलेऊ करके) हाथ में छोटी-सी छड़ी लेकर ये मेरे स्वामी खड़े हैं ।

Also on Fandom

Random Wiki