Fandom

Hindi Literature

गोपी विरह / सूरदास

१२,२६२pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share
http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


चलत गुपाल के सब चले ।
यह प्रीतम सौं प्रीति निरंतर, रहे न अर्ध पले ।
धीरज पहिल करी चलिबैं की, जैसी करत भले ।
धीर चलत मेरे नैननि देखे, तिहिं छिनि आँसु हले ॥
आँसु चलत मेरी बलयनि देखे, भए अंग सिथिले ।
मन चलि रह्यौ हुतौ पहिलैं ही,चले सबै बिमले ।
एक न चलै प्रान सूरज प्रभु, असलेहु साल सले ॥1॥

करि गए थोरे दिन की प्रीति ।
कहँ वह प्रीति कहाँ यह बिछुरनि, कहँ मधुबन की रीति ॥
अब की बेर मिलौ मनमोहन, बहुत भई बिपरीत ।
कैसैं प्रान रहत दरसन बिनु, मनहु गए जुग बीति ॥
कृपा करहु गिरिधर हम ऊपर, प्रेम रह्यौ तन जीति ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे मिलन बिनु, भईं भुस पर की भीति ॥2॥

प्रीति करि दीन्ही गरैं छुरी ।
जैसैं बधिक चुगाइ कपट-कन, पाछैं करत बुरी ॥
मुरली मधुर चेप काँपा करि , मोर चंद्र फँदवारि ।
बंक बिलोकनि लगी, लोभ बस, सकी न पंख पसारि ॥
तरफत गए मधुबन कौं , बहुरि न कीन्ही सार ।
सूरदास प्रभु संग कल्पतरु, उलटि न बैठी डार ॥3॥

नाथ अनाथिन की सुधि लीजै ।
गोपी, ग्वाल, गाइ, गोसुत सब, दीन मलीन दिनहिं दिन छीजैं ॥
नैननि जलधारा बाढ़ी अति, बूड़त ब्रज किन कर गहि लीजै ॥
इतनी बिनती सुनहु हमारी, बारक हूँ पतिया लिखि दीजै ॥
चरन कमल दरसन नव नवका, करुनासिंधु जगत जस लीजै ।
सूरदास प्रभु आस मिलन की, एक बार आवन ब्रज लीजै ॥4॥

देखियत कालिंदी अति कारी ।
अहौ पथिक कहियौ उन हरि सौं, भयौ बिरह जुर जारी ॥
गिरि-प्रजंक तैं गिरति धरनि धसि, तरंग तरफ तन भारी ।
तट बारू उपचार चूर, जल-पूर प्रस्वेद पनारी ॥
बिगलित कच कुस काँस कूल पर पंक जु काजल सारी ।
भौंर भ्रमत अति फिरति भ्रमित गति, निसि दिन दीन दुखारी ॥
निसि दिन चकई पिय जु रटति है, भई मनौ अनुहारी ।
सूरदास-प्रभु जो जमुना गति, सो गति भई हमारी ॥5॥

परेखौ कौन बोल कौ कीजै ।
ना हरि जाति न पाँति हमारी, कहा मानि दुख लीजै ॥
नाहि न मोर-चंद्रिका माथैं, नाहि न उर बनमाल ।
नहिं सोभित पुहुपनि के भूषन, सुंदर स्याम तमाल ॥
नंद-नँदन गोपी-जन-वल्लभ, अब नहिं कान्ह कहावत ।
बासुदेव, जादवकुल-दीपक, बंदी जन बरनावत ॥
बिसर्‌यौ सुख नातौ गोकुल को, और हमारे अंग ।
सूर स्याम वह गई सगाई , वा मुरली कैं संग ॥6॥

अब वै बातैं उलटि गईं ।
जिन बातनि लागत सुख आली, तेऊ दुसह भई ॥
रजनी स्याम सुंदर सँग, अरु पावस की गरजनि ।
सुख समूह की अवधि माधुरी, पिय रस बस की तरजनि ॥
मोर पुकार गुहार कोकिला , अलि गुंजार सुहाई ।
अब लागति पुकार दादुर सम, बिनही कुँवर कन्हाई ।
चंदन चंद समीर अगिन सम, तनहिं देत दव लाई ।
कालिंदी अरु कमल कुसुम सब, दरसन ही दुखदाई ॥
सरद बसंत सिसिर अरु ग्रीषम, हिम-रितु की अधिकाई ।
पावस जरैं सूर के प्रभु बिनु, तरफत रैनि बिहाई ॥7॥

मिलि बिछुरन की बेदन न्यारी ।
जाहि लगै सोई पै जानै, बिरह-पीर अति भारी ॥
जब यह रचना रची बिधाता, तबहीं क्यौं न सँभारी ।
सूरदास प्रभु काहैं, जिवाई, जनमत ही किन मारी ॥8॥

मधुबन तुम क्यौं रहत हरे ।
बिरह बियोग स्याम सुंदर के ठाढ़े क्यौं न जरे ॥
मोहन बेनु बनावत तुम तर, साखा टेकि खरे ।
मोहे थावर अरु जड़ जंगम, मनि जन ध्यान टरे ॥
वह चितवनि तू मन न धरत है, फिरि फिरि पुहुप धरे ।
सूरदास प्रभु बिरह दवानल, नख सिख लौं न जरे ॥9॥

बहुरौ देखिबौ इहि भाँति ।
असन बाँटत खात बैठे, बालकन की पाँति ॥
एक दिन नवनीत चोरत, हौं रही दुरि जाइ ।
निरखि मम छाया भजे, मैं दौरि पकरे धाइ ॥
पोंछि कर मुख लई कनियाँ, तब गई रिस भागि ।
वह सुरति जिय जाति नाहीं, रहे छाती लागि ॥
जिन घरनि वह सुख बिलोक्यौ, ते लगत अब खान ।
सूर बिनु ब्रजनाथ देखे, रहत पापी प्रान ॥10॥

कब देखौं इहिं भाँति कन्हाई ।
मोरनि के चँदवा माथे पर, काँध कामरी लकुट सुहाई ॥
बासर के बीतैं सुरभिन सँग, आवत एक महाछबि पाई ।
कान अँगुरिया घालि निकट पुर, मोहन राग अहीरी गाई ॥
क्यौं हुँ न रहत प्रान दरसन बिनु, अब कित जतन करै री माई ।
सूरदास स्वामी नहिं आए, बदि जु गए अवध्यौऽब भराई ॥11॥

गोपालहिं पावौं धौं किहि देस ।
सिंगी मुद्रा कर खप्पर लै, करिहौं जोगिनि भेस ।
कंथा पहिरि बिभूती लगाऊँ, जटा बँधाऊँ केस ।
हरि कारन गोरखहिं जगाऊँ, जैसैं स्वाँग महेस ॥
तन मन जारौं भस्म चढ़ाऊँ, बिरहाके उपदेस ।
सूर स्याम बिनु हम हैं ऐसी, जैसें मनि बिनु सेस ॥12॥

फिरि ब्रज बसौ गोकुलनाथ ।
अब न तुमहिं जगाइ पठवैं, गोधननि के साथ ॥
बरजैं न माखन खात कबहूँ, दह्यौ देत लुठाइ ।
अब न देहिं उराहनौ, नँद-घरनि आगैं जाइ ॥
दौरि दावरि देहिं नहिं, लकुटी जसोदा पानि ।
चोरि न देहिं उघारि कै, औगुन न कहिहैं आनि ॥
कहिहैं न चरननि देन जावक, गहन बेनी फूल ।
कहिहैं न करन सिंगार कबहूँ, बसन जमुना कूल ॥
करिहैं न कबहूँ मान हम, हठिहैं न माँगत दान ।
कहिहैं न मृदु मुरली बजावन, करन तुमसौं गान ॥
देहु दरसन नंद-नंदन, मिलन की जय आस ।
सूर हरि के रूप कारन, मरत लोचन प्यास ॥13॥

काहैं पीठि दई हरि मोसौं ।
तुमही पीठि भावते दीन्हौ, और कहा कहि कोसौं ॥
मलि बिछुरै की पीर सखी री, राम सिया पहिचाने ।
मिलि बिछुरे की पीर सखी री, पय पानि उर आने ॥
मिलि बिछुरे की पीर कठिन है, कहैं न कोऊ मानै ।
मिलि बिछुरे की पीर सखी री, बिछुर्‌यौ होइ सो जानै ॥
बिछुरे रामचंद्र औ दसरथ, प्रान तजे छिन माहीं ।
बिछुर्‌यौ पात गिर्‌यौ तरुवर तैं, फिर न लगे उहि ठाहीं ॥
बिछुर्‌यौ हँस काय घटहूँ तैं, फिरि न आव घट माहीं ।
मैं अपराधिनि जीवत बिछुरी, बिछुर्‌यौ जीवत नाहीं ॥
नाद कुरंग मीन जल बिछुरे, होइ कीट जरि खेहा ।
स्याम बियोगिनि अतिहिं सखी री, भई साँवरी देहा ॥
गरजि गरजि बादर उनये हैं, बूँदनि बरषत मेहा ।
सूरदास कहु कैसें निबहै, एक ओर कौ नेहा ॥14॥

बारक जाइयौ मिलि माधौ ।
को जानै तन छूटि जाइगौ, सूल रहै जिय साधौ ॥
पहुनैंहु नंदबबा के आबहु, देखि लेउँ पल आधौ ।
मिलैं ही मैं विपरीत करी बिधि, होत दरस कौ बाधौ ॥
सो सुख सिव सनकादि न पावत, जो सुख गोपिन लाधौ ।
सूरदास राधा बिलपति है, हरि कौ रूप अगाधौ ॥15॥

सखी इन नैननि तैं घन हारे ।
बिनहीं रितु बरषत निसि बासर, सदा मलिन दोउ तारे ॥
ऊरध स्वास समीर तेज अति, सुख अनेक द्रुम डारे ।
बदन सदन करि बसे बचन खग, दुख पावस के मारे ॥
दुरि दुरि बूँद परत कंचुकि पर, मिलि अंजन सौं कारे ।
मानौ परनकुटी सिव कीन्ही, बिबि मूरति धरि न्यारे ॥
घुमरि घुमरि बरषत जल छाँड़त, डर लागत अँधियारे ।
बूड़त ब्रहह सूर को राखै, बिनु गिरिवर धर प्यारे ॥16॥

निसि दिन बरषत नैन हमारे ।
सदा रहति बरषा रितु हम पर, जब तैं स्याम सिधारे ।
दृग अंजन न रहत निसि बासर, कर कपोल भए कारे ।
कंचुकि-पट सूखत नहिं कबहूँ, उर बिच बहत पनारे ॥
आँसू सलिल सबै भइ काया, पल न जात रिस टारे ।
सूरदास प्रभु है परेखौ, गोकुल काहैं बिसारे ॥17॥

हर दरसन को तरसति अँखियाँ ।
झाँकति झखतिं झरोखा बैठी, कर मीड़तिं ज्यौं मखियाँ ॥
बिछुरीं बदन-सुधानिधि-रस तैं, लगतिं नहीं पल पँखियाँ ।
इकटक चितवतिं उड़ि न सकतिं जनु, थकित भईं लखि सखियाँ ॥
बार-बार सिर धूनतिं बिसूरतिं, बिरह ग्राह जनु भखियाँ ।
सूर सुरूप मिलै तैं जीवहिं, जीवहिं, काट किनारे नखियाँ ॥18॥

(मेरे) नैना बिरह की बेलि बई ।
सींचत नैन-नीर के सजनी, मूल पताल गई ।
बिगसित लता सुभाइ आपनैं, छाया सघन भई ।
अब कैसैं निरवारौं सजनी , सब तन पसरि छई ॥
को जानै काहू के जिय की, छिन छिन होत नई ।
सूरदास स्वामी के बिछुरैं, लागी प्रेम जई ॥19॥

ब्रज बसि काके बोल सहौं ॥
इन लोभी नैननि के काजैं, परबस भइ जो रहौं ॥
बिसरि लाज गइ सुधि नहिं तन की, अबधौं कहा कहौं ।
मेरे जिय मैं ऐसी आवति, जमुना जाइ बहौं ॥
इक बन ढूँढ़ि सकल बन ढूँढ़ौं, कहूँ न स्याम लहौं।
सूरदास-प्रभु तुम्हरे दरस कौं, इहिं दुख अधिक दहौं ॥20॥

हो, ता दिन कजरा मैं देहौं ।
जा दिन नंदनंदन के नैननि, अपने नैन मिलैहौं ॥
सुनि री सखी यहै जिय मेरैं, भूलि न और चितैहौं ।
अब हठ सूर यहै ब्रत मेरौ, कौकिर खै मरि जैहौं ॥21॥

देखि सखी उत है वह गाउँ ।
जहाँ बसत नँदलाल हमारे, मोहन मथुरा नाउँ ॥
कालिंदी कैं कूल रहत हैं, परम मनोहे ठाउँ ।
जौ तब पंख होइँ सुनि सजनी, अबहि उहाँ उड़ि जाउँ ॥
होनी होइ होइ सो अबहीं, इहिं ब्रज अन्न न खाउँ ॥
सूर नंदनंदन सौं हित करि, लोगनि कहा डराउँ ॥22॥

लिखि नहिं पठवत हैं द्वै बोल ।
द्वै कौड़ी के कागद मसि कौ, लागत है बहु मोल ?
हम इहि पार, स्याम पैले तट, बीच बिरह कौ जोर ।
सूरदास प्रभु हमरे मिलन कौं, हिरदै कियौ कठोर ॥23॥

सुपनैं हरि आए हौं किलकी ।
नींद जु सौति भई रिपु हमकौं, सहि न सकी रति तिल को ।
जौ जागौं तौ कोऊ नाहीं, रोके रहति न हिलकी ।
तन फिरि जरनि भई नख सिख तैं, दिया बाति जनु मिलकी ॥
पहिली दसा पलटि लीन्ही है, त्वचा तचकि तनु पिलको ।
अब कैसैं सहि जाति हमारी, भई सूर गति सिल की ॥24॥

पिय बिनु नागिनि कारी रात ।
जौ कहूँ जामिनि उवति जुन्हैया, डसि उलटि ह्वै जात ॥
जंत्र न पूरत मंत्र नहिं लागत, प्रीति सिरानी जात ।
सूर स्याम बिनु बिकल बिरहनी, मुरि मुरि लहरैं खात ॥25॥

मौकौं माई जमुना जम ह्वै रही ।
कैसैं मिलीं स्यामसुंदर कौं, बैरिनि बीच बही ॥
कितिक बीच मथुरा अरु गोकुल, आवत हरि जु नहीं ।
हम अबला कछु मरम न जान्यौ, चलत न फेंट गही ॥
अब पछिताति प्रान दुख पावत, जाति न बात कही ।
सूरदास प्रभु सुमिरि-सुमिरि गुन, दिन दिन सूल सही ॥26॥

नैन सलोने स्याम, बहुरि कब आवहिंगे ।
वै जौ देखत राते राते, फुलनि फूली डार ।
हरि बिनु फूलझरी सी लागत, झरि झरि परत अँगार ॥
फूल बिनन नहिं जाउँ सखी री, हरि बिनु कैसे फूल ।
सुनि री सखि मोहिं राम दुहाई, लागत फूल त्रिसूल ।
जब मैं पनघट जाउँ सखि री, वा जमुना कै तीर ।
भरि भरि जमुना उमड़ि चलति है, इन नैननि कैं नीर ॥
इन नैननि कैं नीर सखी री, सेज भई घरनाउ ।
चाहति हौं ताही पै चढ़ि कै, हरि जू कैं ढिग जाउँ ॥
लाल पियारे प्रान हमारे, रहे अधर पर आइ ।
सूरदास प्रभु कुंज-बिहारी, मिलत नहीं क्यौं धाइ ॥27॥

प्रीति करि काहू सुख न लह्यौ ।
प्रीति पतंग करी पावक सौं, आप प्रान दह्यौ ॥
अलि-सुत प्रीति करी जल-सुत सौं, संपुट मांझ गह्यौ ।
सारंग प्रीति करी जु नाद सौं, सन्मुख बान सह्यौ ॥
हम जौ प्रीति करी माधव सौं, चलत न कछू कह्यौ ॥
सूरदास प्रभु बिनु दुख पावत, नैननि नीर बह्यौ ॥28॥

प्रीति तौ मरिबौऊ न बिचारै ।
निरखि पतंग ज्योति-पावक ज्यौं, जरत न आपु सँभारै ॥
प्रीति कुरंग नाद मन मोहित, बधिक निकट ह्वै मारै ।
प्रीति परेवा उड़त गगन तैं, गिरत न आपु सँभारै ।
सावन मास पपीहा बोलत, पिय पिय करि जु पुकारै ।
सूरदास-प्रभु दरसन कारन, ऐसी भाँति बिचारै ॥29॥

जनि कोउ काहू कैं बस होहि ।
ज्यौ चकई दिनकर बस डोलत, मोहिं फिरावत मोहि ॥
हम तौ रीझि लटू भई लालन, महा प्रेम तिय जानि ।
बंधन अवधि भ्रमित निसि-बासर, को सुरझावत आनि ॥
उरझे संग अंग अंगनि प्रति, बिरह बेलि की नाईं ।
मुकुलित कुसुम नैन निद्रा तजि, रूप सुधा सियराई ॥
अति आधीन हीन-मति व्याकुल, कहँ लौं कहौं बनाई ।
ऐसी प्रीति-रीति रचना पर, सूरदास बलि जाई ॥30॥

हरि परदेस बहुत दिन लाए ।
कारी घटा देखि बादर की, नैन नीर भरि आए ॥
बीर बटअऊ पंथी हौ तुम, कौन देस तैं आए ।
यह पाती हमरौ लै दीजौ, जहाँ साँवरै छाए ॥
दादुर मोर पपीहा बोलत, सोवत मदन जगाए ।
सूर स्याम गोकुल तैं बिछरे, आपुन भए पराए ॥31॥

ये दिन रूसिबे के नाहीं ।
कारी घटा पौन झकझोरै, लता तरुन लपटाहीं ॥
दादुर मोर चकोर मधुप पिक, बोलत अमृत बानी ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस बिनु, बैरिन रितु नियरानी ॥32॥

अब बरषा कौ आगम आयो ।
ऐसे निठुर भए नँदनंदन, संदैसौ न पठायौ ।
बादर घेरि उठे चहुँ दिसि तैं, जलधर गरजि सुनायौ ।
अकै सूल रही मेरैं जिय, बहरि नहीं ब्रज छायौ ॥
दादुर मोर पपीहा बोलत, कोकिल सब्द सुनायौ ।
सूरदास के प्रभु सौं कहियौ, नैननि है झर लायौ ॥33॥

सँदेसनि मधुबन कूप भरे ।
अपने तौ पठवत नहिं मोहन, हमरे फिरि न फिरे ॥
जिते पथिक पठए मधुवन कों, बहुरि न सोध करे ।
कै वै स्याम सिखाइ प्रमोधे, कै कहूँ बीच मरे ॥
कागद गरे मेघ, मसि खूटी, सर दव लागि जरे ।
सेवक सूर लिखन कौ आँधौ, पलक कपाट अरे ॥34॥

ब्रज पर बदरा आए गाजन ।
मधुबन को पठए सुनि सजनी, फौज मदन लाग्यौ साजन ॥
ग्रीवा रंध्र नैन चातक जल, पिक मुख बाजे बाजन ।
चहुँदिसि तैं तन बिरहा घेर्‌यौ, कैसैं पावति भाजन ॥
कहियत हुते स्याम पर पीरक, आए संकट काजन ।
सूरदास श्रीपति की महिमा, मथुरा लागे राजन ॥35॥

बहुरि हरि आवहिंगे किहि काम ।
रितु बसंत अरु ग्रीषम बीते, बादर आए स्याम ॥
छिन मंदिर छिन द्वारैं ठाढ़ी, यौं सूखति हैं घाम ।
तारे गनत गगन के सजनी, बीतैं चारौ जाम ॥
औरौ कथा सबै बिसराई, लेत तुम्हारौ नाम ।
सूर स्याम ता दिन तैं बिछुरे, अस्थि रहै कै चाम ॥36॥

किधौं घन गरजत नहिं उन देसनि।
किधौं हरि हरषि इंद्र हठि बरजे, दादुर खाए सेषनि ॥
किधौं उहिं देस बगनि मग छाँड़े, घरनि न बूँद प्रवेसनि ।
चातक मोर कोकिला उहिं बन, बधिकनि बधे बिसेषनि ॥
किधौं उहिं देस बाल नहिं झूलतिं, गावतिं सखि न सुदेसनि ।
सूरदास प्रभु पथिक न चलहीं, कासौं, कहौं सँदेसनि ॥37॥

आजु घन स्याम की अनुहारि ।
आए उनइ साँवरे सजनी, देखि रूप की आरि ॥
इंद्र धनुष मनु पीत बसन छबि, दामिनि दसन बिचारि ।
जनु बगपाँति माल मोतिनि की, चितवत चित्त निहारि ॥
गरजत गगन गिरा गोविंद मनु, सुनत नयन भरे वारि ।
सूरदास गुन सुमिरि स्याम के, बिकल भईं ब्रजनारि ॥38॥

हमारे माई मोरवा बैर परे ।
घन गरजत बरज्यौ नहिं मानत, त्यौं त्यौं रटत खरे ॥
करि करि प्रगट पंख हरि इनके, लै लै सीस धरे ।
याही तैं न बदत बिरहनि कौं, मोहन ठीठ करे ॥
को जाने काहे तैं सजनी, हमसौं रहत अरे ।
सूरदास परदेस बसे हरि, ये बन तैं न टरे ॥39॥

बहुरि पपीहा बौल्यौ माई ।
नींद गई चिंता चित बाढ़ी, सूरतिस्याम की आई ॥
सावन मास मेघ की बररषा, हौं उठि आँगन आई ।
चहुँदिसि गगन दामिनी कौंधति, तिहिं जिय अधिक डराई ॥
काहूँ राग मलार अलाप्यौ, मुरलि मधुर सुर गाई ।
सूरदास बिरहिनि भइ ब्याकुल, धरनि परी मुरझाई ॥40॥


सखी री चातक मोहिं जियावत ।
जैसेंहि रैनि रटति हौं पिय पिय, तैसैंहि वह पुनि गावत ॥
अतिहिं सुकंठ, दाह प्रीतम कैं, तारू जीभ न लावत ।
आपुन पियत सुधा-रस अमृत, बोलि बिरहिनी प्यावत ॥
यह पंछी जु सहाइ न होतौ, प्रान महा दुख पावत ।
जीवन सुफल सूर ताही कौ, काज पराए आवत ॥41॥

कोकिल हरि कौ बोल सुनाउ।
मधुबन तैं उपटारि स्याम कौं, इहिं ब्रज कौं लै आउ ॥
जा जस कारन देत सयाने, तन मन धन सब साज ।
सुजस बिकात बचन के बदलैं, क्यौं न बिसाहतु आज ॥
कीजै कछु उपकार परायौ, इहै सयानौ काज ।
सूरदास पुनि कहँ यह अवसर, बिनु बसंत रितुराज ॥42॥

अब यह बरषौ बीति गई ।
जनि सोचहि, सुख मानि सयानी, भली रितु सरद भई ॥
फुल्ल सरोज सरोवर सुंदर, नव बिधि नलिनि नई ।
उदित चारु चंद्रिका किरन, उर अंतर अमृत मई ॥
घटी घटा अभिमान मोह मद, तमिता तेज हई ।
सरिता संजम स्वच्छ सलिल सब, फाटी काम कई ॥
यहै सरद संदेस सूर सुनि, करुना कहि पठई ।
यह सुनि सखी सयानी आईं, हरि-रति अवधि हई ॥43॥

सरद समै हू स्याम न आए ।
को जानै काहे तैं सजनी, किहिं बैरिनि बिरमाए ॥
अमल अकास कास कुसुमति छिति, लच्छन स्वच्छ जनाए ।
सर सरिता सागर जल-उज्ज्वल, अति कुल कमल सुहाए ॥
अहि मयंक, मकरंद कंज अलि, दाहक गरज जिबाए ।
प्रीतम रँग संग मिलि सुंदरि, रचि सचि सींच सिराए ॥
सूनी सेज तुषार जमत चिर, बिरह सिंधु उपजाए ।
अब गई आस सूर मिलिबे की, भए ब्रजनाथ पराए ॥44॥

दूरि करहि बीना कर धरिबौ ।
रथ थाक्यौ, मानौ मृग मोहे, नाहिंन होत चंद्र को ढरिबौ ॥
बीतै जाहि सोइ पै जानै, कठिन सु प्रेम पास कौ परिबौ ।
प्राननाथ संगहिं तैं बिछुरे, रहत न नैन नीर कौ झरिबौ ॥
सीतल चंद अगिन सम लागत, कहिए धीर कौन बिधि धरिबौ ।
सूर सु कमलनयन के बिछरैं, झूठौ सब जतननि कौ करिबौ ॥45॥

कोउ माई बरजै री या चंदहिं ।
अति हीं क्रोध करत है हम पर, कुमुदिनि कुल आनंदहिं ॥
कहाँ कहौ बरषा रबि तमचुर, कमल बकाहक कारे ।
चलत न चपल रहत थिर कै रथ, बिरहिनि के तन जारे ॥
निंदतिं सैल उदधि पन्नग कौं, स्रीपति कमठ कठोरहिं ।
देतिं असीस जरा देवी कौ, राहु केतु किन जोरहिं ॥
ज्यौं जल-हीन मीन तन तलफतिं, ऐसी गति ब्रजबालहिं ।
सूरदास अब आनि मिलावहु, मोहन मदन गुपालहिं ॥46॥

माई मोकौं चंद लग्यौ दुख दैन ।
कहँ वै स्याम कहाँ वै बतियाँ, कहँ वै सुख की रैन ॥
तारे गनत गनत हौं हारी, टपकत लागे नैन ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस बिनु, बिरहिनि कौं नहिं चैन ॥47॥

अब या तनहिं राखि कह कीजै ।
सुनि री सखी स्याम सुंदर बिनु, बाँटि बिषम बिष पीजै ॥
कै गिरिऐ गिरि चढ़ि सुनि सजनी, सीस संकरहि दीजै ।
कै दहिऐ दारून दावानल, जाइ जमुन धँसि लीजै ॥
दुसह बियोग बिरह माधौ के , कौ दिन ही दिन छीजै ।
सूर स्याम प्रीतम बिनु राधे, सोचि सोचि कर मींजै ॥48॥

काहे कौं पिय पियहिं रटति हौ, पिय कौ प्रेम तेरो प्रान हरैगौ ।
काहे कौं लेति नयन जल भरि भरि, नैन भरै कैसैं सूल टरैगौ ॥
काहे कौं स्वास उसास लेति हौ बिरह कौ दबा बरैगौ ।
छार सुगंध सेज पुहपावलि, हार छुवै, हिय हार जरैगो ॥
बदन दुराइ बैठि मंदिर मैं, बहुरि निसापति उदय करैगौ ।
सूर सखी अपने इन नैननि, चंद चितै जनि चंद जरैगौ ॥49॥

बिछुरे री मेरे बाल-सँघाती ।
निकसि न जात प्रान ये पापी, फाटनि नाहिंन छाती ॥
हौं अपराधिनि दही मथति ही, भरी जोबन मदमाती ।
जौ हौं जानति हरि कौ चलिबौ, लाज छाँड़ि सँग जाती ॥
ढरकत नीर नैन भरि सुंदरि, कछु न सोह दिन-राती ।
सूरदास प्रभु दरसन कारन , सखियनि मिलि लिखी पाती ॥50॥

एक द्यौस कुंजनि मैं माई ।
नाना कुसुम लेइ अपनैं कर, दिए मोहिं सो सुरति न जाई ॥
इतने मैं घन गरजि वृष्टि करी, तनु भीज्यौ मो भई जुड़ाई ।
कंपत देखि उढ़ाइ पीत पट, लै करुनामय कंठ लगाई ॥
कहँ वह प्रीति रीति मोहन की, कहँ अब धौं एती निठुराई ।
अब बलवीर सूर प्रभु सखि री, मधुबन बसि सब रति बिसराई ॥51॥

मेरे मन इतनी सूल रही ।
वे बतियाँ छतियाँ लिखि राखीं, जे नँदलाल कही ॥
एक द्यौस मेरैं गृह आए, हौं ही मथत दही ।
रति माँगत मैं मान कियौ सखि, सो हरि गुसा गही ॥
सोचति अति पछिताति राधिका, मुरछित धरनि ढही ।
सूरदास प्रभु के बिछुरे तैं, बिथा न जाति सही ॥52॥

हरि कौ मारग दिन प्रति जोवति ।
चितवत रहत चकोर चंद ज्यौं, सुमिरि-सुमिरि गुन रोवति ॥
पतियाँ पठवति मसि नहिं खूँटति, लिखि लिखि मानहु धोवति ।
भूख न दिन निसि नींद हिरानी, एकौ पल नहिं सोवति ॥
जे जे बसन स्याम सँग पहिरे, ते अजहूँ नहिं धोवति ।
सूरदास प्रभु तुम्हरे दरस बिनु, बृथा जनम सुख खोवति ॥53॥

इहिं दुख तन तरफत मरि जैहैं ।
कबहुँ न सखी स्याम-सुंदर घन, मिलिहैं आइ अंक भरि लैहै ?
कबहुँ न बहुरि सखा सँग ललना, ललित त्रिभंगी छबिहिं दिखै हैं ?
कबहुँ न बेनु अधर धरि मोहन, यह मति लै लै नाम बुलैहैं ।
कबहुँ न कुंज भवन सँग जैहैं, कबहुँ न दूती लैन पठैहैं ?
कबहुँ न पकरि भुजा रस बस ह्वै, कबहुँन पग परि मान मिटैहैं ?
याही तै घट प्रान रहत हैं, कबहुँक फिरि दरसन हरि देहैं ?
सूरदास परिहरत न यातैं, प्रान तजैं नहिं पिय ब्रज ऐहैं ॥54॥

सबैं सुख ले जु गए ब्रजनाथ ।
बिलखि बदन चितवतिं मधुबन तन, इस न गईं उठि साथ ॥
वह मूरति चित तैं बिसरति नहिं, देखि साँवरे गात । मदन गोपाल ठगौरी मेली , कहत न आवै बात ।
नंद-नँदन जु बिदेस गबन कियौ, बैसी मींजतिं हाथ ।
सूदास प्रभु तुम्हरें बिछुरे, हम सब भईं अनाथ ॥55॥

करिहौ मोहन कहूँ सँभारि, गोकुल-जन सुखहारे ।
खग, मृग,तृन, बेली वृंदावन, गैया ग्वाल बिसारे ॥
नंद जसोदा मारग जोवैं, निसि दिन दीन दुखारे ।
छिन छिन सुरति करत चरननि की, बाल बिनोद तुम्हारे ॥
दीन दुखी ब्रज रह्यौ न परि है, सुंदर स्याम ललारे ।
दीनानाथ कृपा के सागर, सूरदास-प्रभु प्यारे ॥56॥

उनकौ ब्रज बसिबौ नहिं भावै ।
ह्वाँ वै भुप भए त्रिभवन के, ह्याँ कत ग्वाल कहावैं ॥
ह्वाँ वै छत्र सिंहासन राजत, की बछरनि सँग धावै ।
ह्वा तौ बिबिधँ वस्त्र पाटंबर, को कमरी सचु पावै ॥
नंद जसोदा हूँ कौ बिसर्‌यौ, हमरी कौन चलावै ॥
सूरदास प्रभु निठुर भए री, पातिहु लिखि न पठावै ॥57॥

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

Also on Fandom

Random Wiki