Fandom

Hindi Literature

ग्वालिनि जौ घर देखै आइ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER 

राग-सारंग


ग्वालिनि जौ घर देखै आइ ।
माखन खाइ चोराइ स्याम सब, आपुन रहे छपाइ ॥
ठाढ़ी भई मथनियाँ कैं ढिग, रीती परि कमोरी ।
अबहिं गई, आई इनि पाइनि, लै गयौ को करि चोरी ?
भीतर गई, तहाँ हरि पाए, स्याम रहे गहि पाइ ।
सूरदास प्रभु ग्वालिनि आगैं, अपनौं नाम सुनाइ ॥

भावार्थ :--जो घर में आकर देखा तो (घर की यह दशा थी कि) सब मक्खन चुरा कर , खा-पी कर श्यामसुन्दर स्वयं छिप गये थे । वह अपने मटके के पास खड़ी हुई तो (देखती क्या है कि) मटका खाली पड़ा है । (सोचने लगी-) `मैं अभी-अभी तो गयी थी और इन्हीं पैरों (बिना कहीं रुके) लौट आयी हूँ, इतने में कौन चोरी कर ले गया ?' भवन के भीतर गयी तो वहाँ कृष्णचन्द्र मिले । सूरदास जी कहते हैं कि ग्वालिनी के आगे अपना नाम बता कर मेरे स्वामी श्यामसुन्दर ने उसके पैर पकड़ लिये ।

Also on Fandom

Random Wiki