Fandom

Hindi Literature

घन-कुरंग / नागार्जुन

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: नागार्जुन

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~

नभ में चौकडियां भरें भले

शिशु घन-कुरंग

खिलवाड़ देर तक करें भले

शिशु घन-कुरंग

लो, आपस में गुथ गये खूब

शिशु घन-कुरंग

लो, घटा जल में गये डूब

शिशु घन-कुरंग

लो, बूंदें पडने लगीं, वाह

शिशु घन-कुरंग

लो, कब की सुधियाँ जगीं, आह

शिशु घन-कुरंग

पुरवा सिह्की, फिर दीख गये

शिशु घन-कुरंग

शशि से शरमाना सीख गये

शिशु घन-कुरंग


१९६४ में लिखित

Also on Fandom

Random Wiki