Fandom

Hindi Literature

घाटी में धूप / रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु'

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

भोर की

पहली किरन से

पुलक –भरा

स्पर्श पाया ,

जैसे शिशु नींद में

रह-रहकर मुस्कराया ।

धूप उतरी

घाटियों में ,

ज्यों उतरता

सीढ़ियों से

पीठ पर लादे हुए

बस्ता किताबों का

एक छोटा

अबोध बच्चा ।

और जादू रौशनी का

धरा पर

उतर आया ।

बह उठी है

भीड़ सड़कों पर

पनाले –सी

छा गई गर्मीं

ढलानों पर

और वक़्त

थके चूर-चूर बच्चे –सा

कुनमुनाया ।

Also on Fandom

Random Wiki