Fandom

Hindi Literature

घिसी पैंसिल / रघुवीर सहाय

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































रचनाकार: रघुवीर सहाय

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


फिर रात आ रही है

फिर वक़्त आ रहा है

जब नींद दु:ख दिन को

संपूर्ण कर चलेंगे

एकांत उपस्थित हो,'सोने चलो' कहेगा

क्या चीज़ दे रही है यह शांति इस घड़ी में ?

एकांत या कि बिस्तर या फिर थकान मेरी ?

या एक मुड़े काग़ज़ पर एक घिसी पैंसिल

तकिये तले दबा कर जिसको कि सो गया हूं ?


('कु़छ पते कुछ चिट्ठियां' नामक कविता-संग्रह से )

Also on Fandom

Random Wiki