Fandom

Hindi Literature

चमन में सुबह ये कहती थी हो कर चश्म-ए-तर शबनम / ख़्वाजा मीर दर्द

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

चमन में सुबह ये कहती थी हो कर चश्म-ए-तर शबनम|
बहार-ए-बाग़ तो यूं ही रही लेकिन किधर शबनम|

अर्क की बूंद उस की ज़ुल्फ़ से रुख़सार पर टपकी,
ताज्जुब की है जागे ये पड़ी ख़ुशीर्द पर शबनम|

हमें तो बाग़ तुझ बिन ख़ाना-ए-मातम नज़र आया,
इधर गुल फारते थे जेब, रोती थी उधर शबनम|

करे है कुछ न कुछ तासीर सोहबत साफ़ ताबों की,
हुई आतिश से गुल के बैठते रश्क-ए-शरर शबनम|

भला तुक सुबह होने दो इसे भी देख लेवेंगे,
किसी आशिक़ के रोने से नहीं रखती ख़बर शबनम|

नहीं अस्बाब कुछ लाजि़म सुबक सारों के उठने को,
गई उड़ देखते अपने बग़ैर अज़ बाल- ओ-पर शबनम|

न पाया जो गया इस बाग़ से हरिगज़ सुराग़ उसका,
न पल्टी फिर सबा इधर, न फिर आई नज़र शबनम|

न समझा ‘दर्द’ हमने भेद यां की शादी-ओ-ग़म का,
सहर खन्दान है क्यों रोती है किस को याद कर शबनम|

Also on Fandom

Random Wiki