Fandom

Hindi Literature

चलत लाल पैजनि के चाइ / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

चलत लाल पैजनि के चाइ ।
पुनि-पुनि होत नयौ-नयौ आनँद, पुनि-पुनि निरखत पाइ ॥
छोटौ बदन छोटियै झिंगुली, कटि किंकिनी बनाइ ।
राजत जंत्र-हार, केहरि-नख पहुँची रतन-जराइ ॥
भाल तिलक पख स्याम चखौड़ा जननी लेति बलाइ ।
तनक लाल नवनीत लिए कर सूरज बलि-बलि जाइ ॥

भावार्थ :-- लाल (श्यामसुन्दर) पैजनी के चाव से (नूपुर-ध्वनि से आनन्दित होकर) चलते हैं । बार-बार उन्हें नया-नया आनन्द (उल्लास) होता है, बार-बार वे अपने चरणों को देखते हैं । छोटा-सा मुख है, छोटा-सा कुर्ता पहिने हैं और कटि में करधनी सजी है । (गले में) यन्त्रयुक्त हार तथा बघनख शोभित है । (भुजाओं में) रत्नजटित पहुँची (अंगद) हैं, ललाट पर तिलक लगा है तथा काला डिठौना है, माता उनकी बलैयाँ ले रही हैं, लाल (श्याम) अपने हाथ पर थोड़ा-सा माखन लिये हैं, (उनकी इस छटा पर) सूरदास बार-बार बलिहारी जाता है ।

Also on Fandom

Random Wiki