Fandom

Hindi Literature

चिंता / भाग २ / कामायनी / जयशंकर प्रसाद

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

रचनाकार: जयशंकर प्रसाद

~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~*~


सुरा सुरभिमय बदन अरूण वे

नयन भरे आलस अनुराग़,

कल कपोल था जहाँ बिछलता

कल्पवृक्ष का पीत पराग।


विकल वासना के प्रतिनिधि

वे सब मुरझाये चले गये,

आह जले अपनी ज्वाला से

फिर वे जल में गले, गये।"


"अरी उपेक्षा-भरी अमरते री

अतृप्ति निबार्ध विलास

द्विधा-रहित अपलक नयनों की

भूख-भरी दर्शन की प्यास।


बिछुडे़ तेरे सब आलिंगन,

पुलक-स्पर्श का पता नहीं,

मधुमय चुंबन कातरतायें,

आज न मुख को सता रहीं।


रत्न-सौंध के वातायन,

जिनमें आता मधु-मदिर समीर,

टकराती होगी अब उनमें

तिमिंगिलों की भीड़ अधीर।


देवकामिनी के नयनों से जहाँ

नील नलिनों की सृष्टि-

होती थी, अब वहाँ हो रही

प्रलयकारिणी भीषण वृष्टि।


वे अम्लान-कुसुम-सुरभित-मणि

रचित मनोहर मालायें,

बनीं श्रृंखला, जकड़ी जिनमें

विलासिनी सुर-बालायें।


देव-यजन के पशुयज्ञों की

वह पूर्णाहुति की ज्वाला,

जलनिधि में बन जलती

कैसी आज लहरियों की माला।"


"उनको देख कौन रोया

यों अंतरिक्ष में बैठ अधीर

व्यस्त बरसने लगा अश्रुमय

यह प्रालेय हलाहल नीर।


हाहाकार हुआ क्रंदनमय

कठिन कुलिश होते थे चूर,

हुए दिगंत बधिर, भीषण रव

बार-बार होता था क्रूर।


दिग्दाहों से धूम उठे,

या जलधर उठे क्षितिज-तट के

सघन गगन में भीम प्रकंपन,

झंझा के चलते झटके।


अंधकार में मलिन मित्र की

धुँधली आभा लीन हुई।

वरूण व्यस्त थे, घनी कालिमा

स्तर-स्तर जमती पीन हुई,


पंचभूत का भैरव मिश्रण

शंपाओं के शकल-निपात

उल्का लेकर अमर शक्तियाँ

खोज़ रहीं ज्यों खोया प्रात।


बार-बार उस भीषण रव से

कँपती धरती देख विशेष,

मानो नील व्योम उतरा हो

आलिंगन के हेतु अशेष।


उधर गरजती सिंधु लहरियाँ

कुटिल काल के जालों सी,

चली आ रहीं फेन उगलती

फन फैलाये व्यालों-सी।


धसँती धरा, धधकती ज्वाला,

ज्वाला-मुखियों के निस्वास

और संकुचित क्रमश: उसके

अवयव का होता था ह्रास।


सबल तरंगाघातों से

उस क्रुद्ध सिंद्धु के, विचलित-सी-

व्यस्त महाकच्छप-सी धरणी

ऊभ-चूम थी विकलित-सी।


बढ़ने लगा विलास-वेग सा

वह अतिभैरव जल-संघात,

तरल-तिमिर से प्रलय-पवन का

होता आलिंगन प्रतिघात।


वेला क्षण-क्षण निकट आ रही

क्षितिज क्षीण, फिर लीन हुआ

उदधि डुबाकर अखिल धरा को

बस मर्यादा-हीन हुआ।


करका क्रंदन करती

और कुचलना था सब का,

पंचभूत का यह तांडवमय

नृत्य हो रहा था कब का।"


"एक नाव थी, और न उसमें

डाँडे लगते, या पतवार,

तरल तरंगों में उठ-गिरकर

बहती पगली बारंबार।


लगते प्रबल थपेडे़, धुँधले तट का

था कुछ पता नहीं,

कातरता से भरी निराशा

देख नियति पथ बनी वहीं।


लहरें व्योम चूमती उठतीं,

चपलायें असंख्य नचतीं,

गरल जलद की खड़ी झड़ी में

बूँदे निज संसृति रचतीं।


चपलायें उस जलधि-विश्व में

स्वयं चमत्कृत होती थीं।

ज्यों विराट बाड़व-ज्वालायें

खंड-खंड हो रोती थीं।


जलनिधि के तलवासी

जलचर विकल निकलते उतराते,

हुआ विलोड़ित गृह,

तब प्राणी कौन! कहाँ! कब सुख पाते?


घनीभूत हो उठे पवन,

फिर श्वासों की गति होती रूद्ध,

और चेतना थी बिलखाती,

दृष्टि विफल होती थी क्रुद्ध।


उस विराट आलोड़न में ग्रह,

तारा बुद-बुद से लगते,

प्रखर-प्रलय पावस में जगमग़,

ज्योतिर्गणों-से जगते।


प्रहर दिवस कितने बीते,

अब इसको कौन बता सकता,

इनके सूचक उपकरणों का

चिह्न न कोई पा सकता।


काला शासन-चक्र मृत्यु का

कब तक चला, न स्मरण रहा,

महामत्स्य का एक चपेटा

दीन पोत का मरण रहा।


किंतु उसी ने ला टकराया

इस उत्तरगिरि के शिर से,

देव-सृष्टि का ध्वंस अचानक

श्वास लगा लेने फिर से।


आज अमरता का जीवित हूँ मैं

वह भीषण जर्जर दंभ,

आह सर्ग के प्रथम अंक का

अधम-पात्र मय सा विष्कंभ!"


"ओ जीवन की मरू-मरिचिका,

कायरता के अलस विषाद!

अरे पुरातन अमृत अगतिमय

मोहमुग्ध जर्जर अवसाद!


मौन नाश विध्वंस अँधेरा

शून्य बना जो प्रकट अभाव,

वही सत्य है, अरी अमरते

तुझको यहाँ कहाँ अब ठाँव।


मृत्यु, अरी चिर-निद्रे

तेरा अंक हिमानी-सा शीतल,

तू अनंत में लहर बनाती

काल-जलधि की-सी हलचल।


महानृत्य का विषम सम अरी

अखिल स्पंदनों की तू माप,

तेरी ही विभूति बनती है सृष्टि

सदा होकर अभिशाप।


अंधकार के अट्टहास-सी

मुखरित सतत चिरंतन सत्य,

छिपी सृष्टि के कण-कण में तू

यह सुंदर रहस्य है नित्य।


जीवन तेरा क्षुद्र अंश है

व्यक्त नील घन-माला में,

सौदामिनी-संधि-सा सुन्दर

क्षण भर रहा उजाला में।"


पवन पी रहा था शब्दों को

निर्जनता की उखड़ी साँस,

टकराती थी, दीन प्रतिध्वनि

बनी हिम-शिलाओं के पास।


धू-धू करता नाच रहा था

अनस्तित्व का तांडव नृत्य,

आकर्षण-विहीन विद्युत्कण

बने भारवाही थे भृत्य।


मृत्यु सदृश शीतल निराश ही

आलिंगन पाती थी दृष्टि,

परमव्योम से भौतिक कण-सी

घने कुहासों की थी वृष्टि।


वाष्प बना उड़ता जाता था

या वह भीषण जल-संघात,

सौरचक्र में आवतर्न था

प्रलय निशा का होता प्रात।

Also on Fandom

Random Wiki