Fandom

Hindi Literature

चितै धौं कमल-नैन की ओर / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

राग धनाश्री

चितै धौं कमल-नैन की ओर ।
कोटि चंद वारौं मुखछबि पर, ए हैं साहु कै चोर ॥
उज्ज्वल अरुन असित दीसति हैं, दुहु नैननि की कोर ।
मानौ सुधा-पान कें कारन , बैठे निकट चकोर ॥
कतहिं रिसाति जसोदा इन सौं, कौन ज्ञान है तोर ।
सूर स्याम बालक मनमोहन, नाहिन तरुन किसोर ॥

सूरदास जी कहते हैं--(कोई गोपी समझा रही है -)`कमल-लोचन की ओर देखो तो ! ये चाहे साह (चोरी न करने वाले) हों या चोर हों, इनके मुख की शोभा पर करोड़ों चन्द्र को न्योछावर कर दूँ । इनके नेत्रों के किनारे उज्ज्वल, श्याम तथा अरुण दीख पड़ रहे हैं, मानो चकोर (इस मुखचन्द्र का) अमृत पीने के लिये पास बैठे हों । यशोदा जी ! इन पर क्यों क्रोध करती हो ? यह तुम्हारी कौन-सी समझदारी है ? अरे श्यामसुन्दर अभी मनमोहन बालक हैं, कोई तरुण या किशोर तो हैं नहीं ।'

Also on Fandom

Random Wiki