Fandom

Hindi Literature

जगह-जगह तेरी बातें थीं / शमशेर बहादुर सिंह

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER


जगह-जगह तेरी बातें थी, तेरे चर्चे थे;

ज़माना क्या वो हमको नहीं याद, क्या कुछ था ?


जो 'कारवाँ' से उठी थी सदाए-बाँगे-जरस;

उसी पे चलता अगर बादाबाद...क्या कुछ था ! !


लिखी थी नज़्म तो अंग्रेज़ी में--मगर क्या ख़ूब !

जो और बढ़ता यह हिन्दी नज़ाद, क्या कुछ था ! !


तबाह कर दिया तुझको शराबख़ोरी ने

वर्गना, तू भुवनेश्वर प्रसाद, क्या कुछ था !



सदाए-बाँगे-जरस=घंटियों की आवाज़ की धुन; नज़ाद=वंश

यह क़िता अप्रतिम एकांकी-नाटककार भुवनेश्वर की याद को समर्पित है ।

'कारवाँ' भुवनेश्वर के एकांकी-संग्रह का शीर्षक है ।

Also on Fandom

Random Wiki