Fandom

Hindi Literature

जननी देखि, छबि बलि जाति / सूरदास

१२,२६१pages on
this wiki
Add New Page
Talk0 Share

Ad blocker interference detected!


Wikia is a free-to-use site that makes money from advertising. We have a modified experience for viewers using ad blockers

Wikia is not accessible if you’ve made further modifications. Remove the custom ad blocker rule(s) and the page will load as expected.

http://www.kavitakosh.orgKkmsgchng.png
































CHANDER

जननी देखि, छबि बलि जाति ।
जैसैं निधनी धनहिं पाएँ, हरष दिन अरु राति ॥
बाल-लीला निरखि हरषति, धन्य धनि ब्रजनारि ।
निरखि जननी-बदन किलकत, त्रिदस-पति दै तारि ॥
धन्य नँद, धनि धन्य गोपी, धन्य ब्रज कौ बास ।
धन्य धरनी करन पावन जन्म सूरजदास ॥

भावार्थ :--माता (श्याम की) शोभा देखकर बलिहारी जाती है । जैसे निर्धन को धन प्राप्त हो जाने से रात-दिन आनन्द हो रहा हो । (श्रीकृष्णचन्द्र की) बाल-लीला देखकर हर्षित होने वाली व्रज की नारियाँ धन्य हैं । त्रिलोकीनाथ प्रभु माता का मुख देखकर ताली बजाकर (हाथ परस्पर मिलाकर) किलकारी मारते हैं । व्रजराज श्रीनन्द जी धन्य हैं ये गोपिकाए धन्य-धन्य हैं और जिन्हें व्रज में निवास मिला है वे भी धन्य हैं । सूरदास कहते हैं कि पृथ्वी को पवित्र करने वाला प्रभु का अवतार धन्य है ।

Also on Fandom

Random Wiki